0 लिव-इन-रिलेशन पर फैसला: राजस्थान हाई कोर्ट ने कहा- शादीशुदा और अविवाहित के बीच यह रिश्ता मान्य नहीं, उन्हें कानून से सुरक्षा नहीं मिलेगी - कालचक्र

लिव-इन-रिलेशन पर फैसला: राजस्थान हाई कोर्ट ने कहा- शादीशुदा और अविवाहित के बीच यह रिश्ता मान्य नहीं, उन्हें कानून से सुरक्षा नहीं मिलेगी

  • Hindi News
  • National
  • Rajasthan High Court On Live In Relationship Between A Married & Unmarried Person Not Permissible

जयपुर7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
राजस्थान हाई कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले का हवाला देते हुए कहा कि लिव-इन-रिलेशनशिप में कपल को पति-पत्नि की तरह रहना चाहिए। - Dainik Bhaskar

राजस्थान हाई कोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले का हवाला देते हुए कहा कि लिव-इन-रिलेशनशिप में कपल को पति-पत्नि की तरह रहना चाहिए।

लिव-इन-रिलेशनशिप को लेकर राजस्थान हाई कोर्ट ने गुरुवार को एक याचिका पर सुनवाई करते हुए अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट के मुताबिक, एक शादीशुदा और अविवाहित लिव-इन-रिलेशनशिप में नहीं रह सकते। उनका यह रिश्ता कानूनी तौर पर मान्य नहीं होगा। उन्हें किसी प्रकार की सुरक्षा भी नहीं मिलेगी।

दरअसल, 29 साल की एक अविवाहित युवती और 31 साल के शादीशुदा युवक ने मिलकर कोर्ट में एक याचिका दायर की थी। जिसमें उन्होंने परिवार से खतरा बताते हुए कानूनी सुरक्षा की मांग की थी। इस पर सुनवाई करते हुए जस्टिस पंकज भंडारी ने सुनवाई करते हुए याचिका खारिज कर दी।

लिव-इन-रिलेशनशिप में पति-पत्नि की तरह रहना चाहिए
अदालत ने सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले का हवाला देते हुए कहा कि लिव-इन-रिलेशनशिप में कपल को पति-पत्नि की तरह रहना चाहिए। इस रिश्ते के लिए दोनों की उम्र शादी लायक होनी चाहिए और शादी करने की पात्रता भी होनी चाहिए। हाई कोर्ट ने कहा कि युवक पहले से ही शादीशुदा है, जबकि महिला अविवाहित है। ऐसे में दोनों के बीच लिव-इन-रिलेशनशिप मान्य नहीं होगा।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply