सच साबित हुईं भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट्स: बंगाल में ध्रुवीकरण हुआ, लेकिन सिर्फ मुस्लिम एकजुट हुए; BJP जंगलमहल जैसे अपने गढ़ में भी सीटें गंवा बैठी

  • Hindi News
  • National
  • Dainik Bhaskar Ground Reports West Bengal Election 2021 TMC Wins Majority In West Bengal Assembly

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोलकाताएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

पश्चिम बंगाल के चुनावी नतीजे आ चुके हैं और TMC सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। चुनाव के दौरान की गईं दैनिक भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट्स सही साबित हुई हैं। तमाम लोग कह रहे थे कि BJP दो सौ से ज्यादा सीटें जीत रही है, तब हमने क्षेत्रवार एनालिसिस करते हुए जमीनी हकीकत सामने रखी थी। नतीजों ने उन पर मुहर लगा दी। BJP अपने दावे के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सकी। हमने पहले ही सिलसिलेवार इसकी वजहों को सामने ला दिया था।

रविंद्र भारती यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर और चुनाव विश्लेषक डॉ. विश्वनाथ चक्रवर्ती कहते हैं कि पश्चिम बंगाल में ध्रुवीकरण तो हुआ, लेकिन इससे सिर्फ मुस्लिम एकजुट हुए। उन्होंने एकतरफा TMC को वोट किए। हिंदू आपस में बंट गए या कहें कि हिंदुओं में ध्रुवीकरण हुआ ही नहीं। इसी का नतीजा रहा कि ममता बनर्जी ने इतनी बड़ी जीत हासिल की। BJP की हार की दूसरी बड़ी वजह पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस की कीमतों का चुनाव के पहले बढ़ना रहा। तीसरी वजह बाहरी बनाम भीतरी का मुद्दा बना। ममता ने बार-बार कहा कि बाहरी लोग कभी बंगाल की संस्कृति को नहीं समझ सकते। इसका लोगों पर असर हुआ।

वरिष्ठ पत्रकार प्रभाकर मणि तिवारी कहते हैं कि मुस्लिमों ने किस तरह ममता को वोट दिए, इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि मालदा-मुर्शिदाबाद तक में वे एकतरफा जीतीं। ये मुस्लिम बहुल इलाके हैं और कांग्रेस के गढ़ रहे हैं, लेकिन इस बार मुस्लिम दीदी को ही जिताना चाहते थे।

रिपोर्ट्स जाे सही साबित हुईं…
भास्कर की लगभग सभी ग्राउंड रिपोर्ट्स सच साबित हुईं। पूरा मीडिया जब कह रहा था कि मतुआ समुदाय BJP को एकतरफा वोट करेगा, तब हमने लिखा कि मतुआ TMC और BJP में बंटा हुआ है। जंगलमहल को BJP का गढ़ बताया जा रहा था।

हमने लिखा था कि वहां बीजेपी को लोकसभा जैसी जीत मिलने की संभावना अब नहीं है। हमने लिखा था ममता पर जब-जब हमले हुए, वे तब-तब मजबूत हुईं और इस बार के हमले ने भी दीदी को मजबूत ही किया है। देखिए हमारी रिपोर्ट्स…

झाड़ग्राम
हमने लिखा था कि ऐन मौके पर TMC ने डैमेज कंट्रोल कर लिया है और चार में से तीन सीटें जीत सकती है। यहां पार्टी चारों सीटों पर ही आगे है।

बांकुड़ा-पुरुलिया
हमने लिखा था कि यहां बीजेपी लोकसभा जैसी जीत दर्ज नहीं कर पाएगी। आधी सीटें TMC जीत सकती है। यही हुआ भी। TMC ने यहां की अधिकतर सीटों पर जीत दर्ज की।

हुगली-हावड़ा
हुगली-हावड़ा दोनों की रिपोर्ट्स में हमने बताया था कि TMC मजबूत है और अधिकतर सीटें जीतती दिख रही है। यही नतीजा यहां सामने आया। हमने लिखा था कि TMC से BJP में आए राजीव बनर्जी कड़ी टक्कर दे रहे हैं, वे कई राउंड तक आगे रहे, लेकिन आखिर में हार गए।

नॉर्थ 24 परगना
हमने लिखा था कि यहां मुस्लिम आबादी के आगे हर मुद्दा फीका है और TMC आगे दिख रही है। यह रिपोर्ट भी सही साबित हुई।

पश्चिम और पूर्व मेदिनीपुर
हमने लिखा था यहां मोदी-शाह ने पूरी ताकत झोंकी, लेकिन दीदी कड़ी टक्कर दे रही हैं। यहां भी TMC ने बेहतरीन परफॉर्म किया है। हमने ये बताया था कि यह इलाका शुभेंदु अधिकारी का गढ़ है, लेकिन वे TMC को नुकसान पहुंचाते नहीं दिख रहे।

बदलता माहौल
हमने लिखा था कि टिकट बंटवारे के बाद माहौल बदला है और TMC ग्राउंड पर मजबूत दिख रही है।

नॉर्थ बंगाल
हमने लिखा था कि नॉर्थ बंगाल में BJP मजबूत दिख रही है और अच्छा परफॉर्म कर सकती है। यहां BJP ने कई सीटें जीती हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply