पाकिस्तान में सिविल वॉर के हालात: कुछ फौजियों के TLP में शामिल होने का दावा; इमरान ने कहा- इस्लाम का सियासी फायदा उठाया जा रहा है

  • Hindi News
  • International
  • Pakistan Civil War; Imran Khan Government Ban Tehreek e labbaik Pakistan Media Coverage Of Program

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इस्लामाबाद9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान यानी TLP ने 12 पुलिसकर्मियों को दो दिन बंधक बनाए रखा। इन्हें सोमवार दोपहर रिहा किया गया। - Dainik Bhaskar

तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान यानी TLP ने 12 पुलिसकर्मियों को दो दिन बंधक बनाए रखा। इन्हें सोमवार दोपहर रिहा किया गया।

पाकिस्तान में गृहयुद्ध के हालात पैदा हो गए हैं। फ्रेंच एम्बेसेडर को मुल्क से बाहर निकालने के नाम पर आंदोलन कर रही कट्टरपंथी पार्टी तहरीक-ए-लब्बैक (TLP) ने आज मुल्क में बंद का आह्वान किया है। इमरान खान सरकार ने TLP से जुड़े किसी भी कार्यक्रम की मीडिया कवरेज पर रोक लगा दी है। कराची और लाहौर में दो दिन की हिंसा में 8 लोग मारे जा चुके हैं। सोशल मीडिया पर फौजियों के कुछ वीडियो वायरल हो रहे हैं। इनमें दावा किया गया है कि पाकिस्तानी फौज में विद्रोह हो गया है और कुछ सैनिक TLP में शामिल हो गए हैं।

दूसरी तरफ, प्रधानमंत्री इमरान खान ने TLP के बहाने मजहबी जमातों और पार्टियों पर निशाना साधा। कहा- यह अफसोस की बात है कि कुछ सियासी और मजहबी जमातें इस्लाम का गलत फायदा उठा रही हैं।

मीडिया कवरेज पर बैन
सोशल मीडिया पर ऐसे कई वीडियो शेयर किए गए हैं, जिनमें कुछ पाकिस्तानी सैनिक नौकरी छोड़कर TLP में शामिल होने की बात कह रहे हैं। एक वीडियो में तो सैनिक अपने हथियार कट्टरपंथी नेता के हाथों में सौंपते नजर आ रहे हैं। दो सैनिकों ने अपने नाम बताकर संगठन में शामिल होने का दावा किया। यह इसलिए सही माना जा सकता है क्योंकि, सैनिक जो बता रहे हैं उसे मेनस्ट्रीम मीडिया ने भी कवर किया था।

हामिद मीर, आरजू काजमी और सलीम सैफी जैसे कई मशहूर पत्रकारों ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर खुलकर बताया है कि TLP मामले की कवरेज से रोका गया है। तीन दिन से ज्यादातर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स ठीक से काम नहीं कर रहे हैं।

हजारों कट्टरपंथी सड़कों पर उतरे
सोमवार को TLP ने पाकिस्तान बंद का आह्वान किया था। देश के ज्यादातर हिस्सों में इसे बड़ी कामयाबी मिलती देखी गई। इस्लामाबाद और रावलपिंडी जैसे प्रमुख शहरों में किसी भी एंट्री पर रोक लगा दी गई है। यहां पुलिस ने बीच रोड पर कंटेनर लगाकर इन्हें ब्लॉक कर दिया। इसके बावजूद हजारों TLP समर्थक सड़कों पर मौजूद हैं। रविवार को कराची और लाहौर में पुलिस की फायरिंग में 8 लोगों के मारे जाने की खबर है। सरकार ने 3 मौतों की पुष्टि की है।

TLP प्रमुख की पिटाई का कथित वीडियो
सोमवार सुबह ही सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ। इसमें TLP प्रमुख साद रिजवी जैसा नजर आने वाला व्यक्ति है। उसको जमीन पर लिटाकर बेरहमी से पीटा जा रहा है। इस वीडियो के सामने आने के बाद हिंसा पहले से ज्यादा भड़क सकती है।

दूसरी तरफ, इमरान खान ने पहली बार इस मामले में बयान दिया। एक सरकारी कार्यक्रम के दौरान खान ने कहा- मजहबी जमातें और राजनीतिक दल इस्लाम का गलत फायदा उठा रहे हैं। मैंने पैगम्बर के अपमान का मामला पूरी दुनिया के सामने रखा। हम इसे सहन नहीं कर सकते।

ये बवाल क्यों हो रहा है
TLP की मांग है कि फ्रांस में पैगम्बर साहब का अपमान हुआ था, इसलिए पाकिस्तान से फ्रेंच एम्बेसेडर को फौरन निकाला जाए। इमरान सरकार ने इस पर संसद में बहस कराने का वादा किया था। बिल लाने के पहले ही TLP प्रमुख को 12 अप्रैल को गिरफ्तार कर लिया गया। TLP मजहबी और सियासी पार्टी है। पिछले चुनाव में उसे 24 लाख वोट मिले थे। इमरान सरकार फ्रांस के खिलाफ कोई एक्शन नहीं ले सकती, क्योंकि इससे यूरोपियन यूनियन और अमेरिका उसके खिलाफ हो जाएंगे। इधर, सियासी मजबूरियों के चलते TLP पर बैन तो लगा दिया गया लेकिन, सरकार और फौज सख्त कदम उठाने से डर रही है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply