अपनी जान खतरे में डालकर छात्र नहीं हैं परीक्षा देने को तैयार, इसलिए CBSE से लगा रहे हैं ये गुहार, जानें पूरा माजरा

CBSE Board Exam

कोरोना का कहर किस तेजी से लोगों को अपनी चपेट में लेने पर अमादा हो चुका है. यह तो फिलहाल बताने की जरूरत नहीं है. कोरोना का संक्रमण बहुत तेजी से पूरे देश में फैलता जा रहा है. आलम चह है कि लगातार संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है. गंभीर होती स्थिति का अंदाजा आप महज इसी से लगा सकते हैं कि कहीं नाइट कर्फ्यू लगाया जा रहा है, तो कहीं साप्ताहिक लॉकडाउन का सिलसिला शुरू हो चुका है. वहीं, लगातार बढ़ते संक्रमण के मामलों को देखते हुए 10वीं और 12वीं के छात्र अब सीबीएसई से कोरोना वायरस का हवाला देते हुए आगामी बोर्ड परीक्षाओं को निरस्त कराने की मांग कर रहे हैं. छात्रों ने साफ कह दिया है कि वे अपनी जान को खतरे में डालकर परीक्षा देने को कतई तैयार नहीं हैं.

यहां हम आपको बताते चले कि 10वीं और 12वीं की परीक्षा में महज दो सप्ताह ही शेष रह गए हैं, और कोरोना वायरस के मामले भी अपने चरम पर पहुंचते जा रहे हें, जिसको ध्यान में रखते हुए अब इस बात को लेकर आशंका बनी हुई है कि क्या आगामी दिनों में परीक्षा संपन्न होगी की नहीं. चार मई से बोर्ड परीक्षाएं शुरू होने जा रही हैं, जिसको ध्यान में रखते हुए बोर्ड परीक्षाओं को लगातार निरस्त कराने की मांग की जा रही है या नहीं तो इन परीक्षाओं की जगह ऑनलाइन परीक्षा कराने की मांग की जा रही है, मगर अभी तक सीबीएसई की तरफ से कोई संतुष्ट करने वाली प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है.

CBSE का क्या कहना है?

वहीं, सीबीएसई ने छात्रों को आश्वस्त करते हुए कहा कि हम छात्रों को यह विश्वास दिलाते हैं कि वे एक सुरक्षित वातावरण में परीक्षा देंगे. उनकी सुरक्षा का प्रत्येक इंतजाम किया जाएगा. वहीं, सीबीएसई ने यह भी कहा कि अगर छात्र या उनके परिवार में से कोई संक्रमित हो जाता है, तो उन्हें फौरन किसी दूसरे विकल्प के तहत परीक्षा देने का प्रावधान किया जाएगा, ताकि वे अपनी पढ़ाई मुकम्मल कर सके.

खैर, अभी इसे लेकर गतिरोध की स्थिति बनी हुई है और संक्रमण के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं. अब ऐसे में देखना यह होगा कि सीबीएसई कौन सा रास्ता अख्तियार करती है. उधर, 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं को निरस्त कराने के लिए कल ट्विटर पर पूरे दिन CANCEL BORD EXAM ट्रेंड करता रहा.

Source link

Leave a Reply