पॉलीसल्फेट® : स्थायी कृषि के लिए एक महत्वपूर्ण प्राकृतिक उर्वरक

Polysulfate, ICL India

पॉलीसल्फेट® ICL द्वारा UK में खनन किया गया बहु-पोषक प्राकृतिक उर्वरक है. यह एक प्राकृतिक खनिज (डायहाइड्रेट पॉलीहैलाइट) है जिसमें चार प्रमुख पोषक तत्व, पोटैशियम, सल्फर, कैल्शियम और मैग्नीशियम पाए जाते हैं.

यह एक प्राकृतिक क्रिस्टल होने के नाते पानी में धीमे घुलता है और मृदा में अपने पोषक तत्वों को धीरे – धीरे छोड़ता है. पॉलीसल्फेट की यह विशेषता फसल चक्र के दौरान  पोषक तत्वों की उपलब्धता लंबे समय तक बनाये रखती है, जबकि अन्य परंपरागत पोटाश और सल्फेट उर्वरकों से पोषक तत्व फसलों में प्रयोग के  कुछ ही समय तक उपलब्ध रह पाते हैं. 

Polysulfate

पॉलीसल्फेट (पॉलीहैलाइट) द्वारा तत्वों का लंबा रिलीज पैटर्न ज्यादा वर्षा होने पर भी रिसाव से होने वाले पोषक तत्वों के नुकसान को बहुत कम कर देता है पॉलीसल्फेट की ये खूबी इसको खेती की सभी परिस्थितिओं में इसे सबसे उपयुक्त उर्वरक बनाती है.

पॉलीसल्फेट सभी फसलों के लिए उपयुक्त है

यह किसानों और उत्पादकों के लिए कम लागत का बेहद सुविधाजनक और प्रभावी उर्वरक है, जो एक साथ एक ही उर्वरक में फसलों को चार आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है. पॉलीसल्फेट सभी प्रकार की मिट्टी और फसलों के लिए एक उपयोगी  प्राकृतिक उर्वरक है. पॉलीसल्फेट से निरंतर मिलने वाला सल्फर पौधों में नाइट्रोजन उपयोग को बढ़ा, नाइट्रोजन उपयोग दक्षता (NUE) में सुधार करता है. पौधों में समुचित प्रोटीन निर्माण के लिए सल्फर और नाइट्रोजन के पोषण में  संतुलन बहुत ही महत्वपूर्ण है. पॉलीसल्फेट में क्लोराइड (Cl) की कम मात्रा होने से  यह क्लोराइड संवेदनशील फसलों जैसे  तंबाकू, अंगूर, चाय आदि  फसलों और आलू में बेहतर ड्राइ मैटर की मात्रा के लिए सबसे उपयुक्त उर्वरक है.

मृदा स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए फायदेमंद है

पॉलीसल्फेट समान्य पीएच का उर्वरक है, इसलिए मृदा स्वास्थ्य के लिए सभी परिस्थितियों में उपयुक्त है. अन्य उर्वरकों की अपेक्षा, पॉलीसल्फेट  को इसकी प्राकृतिक अवस्था में ही उपयोग के लिए ICL द्वारा उपलब्ध कराया जा रहा है. पॉलीसल्फेट, उत्तरी सागर के नीचे UK तट पर स्थित ICL क्लीवलैंड की खानों में 1250 मीटर  की गहराई से निकाला जा रहा है और  इसको पीसकर, छानकर और बोरी में भरकर दुनिया भर में  भेजा जा रहा है. पॉलीसल्फेट  के उत्पादन में  कोई रासायनिक  प्रक्रिया शामिल नहीं है अतः यह प्राकृतिक उर्वरक जैविक खेती के लिए भी उपयुक्त है. पॉलीसल्फेट के उतपादन में कार्बन उत्सर्जन (0.034 किलोग्राम प्रति किलो उत्पाद)  व्यापक श्रेणी के उर्वरकों की तुलना में बहुत कम होता है जो पर्यावरण के नजरिये से बहुत महत्वपूर्ण है.

पॉलीसल्फेट इन सभी खूबियों के साथ, दुनियाभर में सल्फर, पोटैशियम, मैग्नीशियम और कैल्शियम की आपूर्ति  के लिए सबसे अधिक चुना जाने वाला उर्वरक है.

भारत में यह पॉलीहैलाइट नाम से  इंडियन पोटाश लिमिटेड द्वारा भी उपलब्ध कराया जा रहा है. इसकी अधिक जानकारी के लिए आप हमें www.fert.l.zers.sales@.CL-group.com पर लिख सकते हैं. पॉलीसल्फेट की विस्तृत जानकारी www.polysulphate.com पर उपलब्ध है.    

लेखक: डॉ. शैलेंद्र सिंह, आईसीएल इंडिया

 

Source link

Leave a Reply