ममता को गहलोत का साथ: राजस्थान के CM ने कहा- ममता बनर्जी की चिट्ठी में केंद्र से फंड रोके जाने की बात सही, मैंने असेंबली में मुद्दा उठाया था

  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Gehlot Wrote In Mamta’s Letter, The Matter Of Stopping The Funds Of The Center Is Correct, I Had Also Raised This Matter In The Assembly.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयपुर8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
अशोक गहलोत ने गुरुवार को असम में कांग्रेस प्रत्याशी के चुनाव प्रचार के दौरान भी भाजपा पर निशाना साधा। बंगाल और असम के लोग बेहद संजीदा और समझदार हैं। वे भाजपा को सबक सिखाएंगे। - Dainik Bhaskar

अशोक गहलोत ने गुरुवार को असम में कांग्रेस प्रत्याशी के चुनाव प्रचार के दौरान भी भाजपा पर निशाना साधा। बंगाल और असम के लोग बेहद संजीदा और समझदार हैं। वे भाजपा को सबक सिखाएंगे।

  • ममता ने 18 विपक्षी दलों को चिट्‌ठी लिख भाजपा को हराने के लिए समर्थन मांगा था

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की 18 विपक्षी दलों को लिखी गई चिट्ठी के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ममता का समर्थन किया है। ममता द्वारा केंद्र पर बंगाल समेत दूसरे राज्यों का फंड रोकने के आरोपों का गहलोत ने सोशल मीडिया पर खुलकर समर्थन करते हुए मोदी सरकार को निशाने पर लिया है।

गहलोत ने लिखा, इस मुद्दे को मैंने भी असेंबली में उठाया था। केंद्र सरकार राज्यों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है। एक तरफ प्रधानमंत्री को-ऑपरेटिव फेडरलिज्म की बात करते हैं, दूसरी तरफ राज्यों को आर्थिक रूप से कमजोर किया जा रहा है।’

गहलोत ने लिखा- केन्द्र से GST में राज्य को पूरा हिस्सा भी नहीं मिल रहा है। केन्द्र सरकार ने बजट में पेट्रोल और डीजल पर सेस लगाया है और बेसिक एक्साइज ड्यूटी को लगातार कम किया जा रहा है, लेकिन स्पेशल एक्साइज ड्यूटी और एडिशनल एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई जा रही है। इसके कारण डिविजिएबल पूल के रूप में राज्यों को मिलने वाला हिस्सा काफी घट गया है। अधिकतर केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं में भी राज्य का हिस्सा बढ़ाते हुए केन्द्र के अंश को कम किया गया है। इन सबका प्रतिकूल असर राज्यों के राजस्व पर हो रहा है।

गहलोत का दावा- केंद्र की योजनाओं में राज्यों पर भार बढ़ाया गया
गहलोत का कहना है कि केन्द्र से GST में राज्य को पूरा हिस्सा भी नहीं मिल रहा है। केन्द्र सरकार ने बजट में पेट्रोल और डीजल पर सेस लगाया और बेसिक एक्साइज ड्यूटी को लगातार कम किया जा रहा है, लेकिन स्पेशल एक्साइज ड्यूटी और एडिशनल एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई जा रही है। इसके चलते डिविजिएबल पूल के रूप में राज्यों को मिलने वाला हिस्सा काफी घट गया है। ज्यादातर केन्द्र की योजनाओं में भी राज्य का हिस्सा बढ़ाते हुए केन्द्र के योगदान को कम किया गया है। इन सबका असर राज्यों के राजस्व पर पड़ रहा है।

बाकी मुद्दों पर गहलोत ने प्रतिक्रिया नहीं दी
राज्यों के फंड के मुद्दे के ममता द्वारा उठाए गए दूसरे मुद्दों पर गहलोत ने कोई कमेंट नहीं किया है। गहलोत की इस सधी हुई प्रतिक्रिया के पीछे बंगाल की सियासी हकीकत मानी जा रही है। बंगाल में कांग्रेस और TMC एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

गहलोत ने कहा था- बंगाल, असम के लोग भाजपा को सबक सिखाएंगे
इससे पहले गुवाहाटी में गहलोत ने कहा था कि भाजपा का असली चाल, चरित्र, चेहरा और एजेंडा जनता के सामने आ चुका है। भाजपा पूरी तरह एक्सपोज हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का खुद का ग्राफ नीचे गिर रहा है। बंगाल और असम के लोग बेहद संजीदा और समझदार हैं। वे अच्छी तरह समझ रहे हैं कि देश में क्या हो रहा है। मैं समझता हूं असम और बंगाल के लोग भाजपा को सबक सिखाएंगे।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply