इतिहास में आज: अप्रैल फूल कैसे बना जमाने का दस्तूर! फ्रांस से शुरू हुआ ट्रेंड नूडल्स की खेती से बॉलीवुड के फेमस गाने तक कैसे पहुंचा?

  • Hindi News
  • National
  • Today History: Aaj Ka Itihas 1st April March Update | April Fools Day Story Behind The Celebration, Netherlands Same Sex Marriage

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

हर साल 1 अप्रैल को अप्रैल फूल दिवस मनाया जाता है। इसकी शुरुआत कब हुई, यह एक रहस्य ही है। लोग एक-दूसरे के साथ शरारत करते हैं और अंत में ‘अप्रैल फूल बनाया’ कहकर खुद ही बता भी देते हैं कि यह एक शरारत थी। अप्रैल फूल को जनता तक पहुंचाने में कई ब्रांड्स और मीडिया भी पीछे नहीं है। भारत में तो 1964 में अप्रैल फूल नाम से फिल्म तक बन चुकी है, जिसका गाना ‘अप्रैल फूल बनाया, उनको गुस्सा आया’ आज भी पहली अप्रैल को खूब याद किया जाता है।

कुछ इतिहासकारों के मुताबिक अप्रैल फूल की शुरुआत 1582 में हुई। फ्रांस में जूलियन कैलेंडर की जगह ग्रेगोरियन कैलेंडर अपनाया गया था। जूलियन कैलेंडर में हिंदू नववर्ष की तरह मार्च के अंत या अप्रैल की शुरुआत में साल शुरू होता था। यानी 1 अप्रैल के आसपास। ग्रेगोरियन कैलेंडर यानी जनवरी से दिसंबर। जिन लोगों को कैलेंडर बदलने की जानकारी देरी से पहुंची, वे मार्च के आखिरी हफ्ते से 1 अप्रैल तक नववर्ष मनाते रहे और इस वजह से उन पर खूब चुटकुले बने। उनका मजाक उड़ाया गया। उन्हें अप्रैल फूल कहा गया। कागज से बनी मछलियों को उनके पीछे लगा देते। इसे पॉइसन डेवरिल (अप्रैल फिश) कहा जाता था। यह एक ऐसी मछली थी, जो आसानी से शिकार बन जाती थी। ऐसे में उन लोगों का मखौल बनता, जो आसानी से शरारत का शिकार हो जाते।

इतिहासकार अप्रैल फूल को हिलेरिया (आनंद के लिए लैटिन शब्द) से भी जोड़ते हैं। इसे सिबेल समुदाय के लोग मार्च के अंत में प्राचीन रोम में मनाते थे। इसमें लोग भेस बनाते और एक-दूसरे का और मजिस्ट्रेट तक का मजाक उड़ाते। इसे इजिप्ट की प्राचीन कहानियों से जोड़ा जाता है। कुछ लोग यह भी कहते हैं कि अप्रैल फूल का संबंध वर्नल इक्विनॉक्स या वसंत के आगमन से हैं। प्रकृति बदलते मौसम से लोगों को बेवकूफ बनाती है।

ब्रिटेन में अप्रैल फूल 18वीं सदी में पहुंचा। स्कॉटलैंड में यह दो दिन की परंपरा बना। ‘हंटिंग द गौक’ (मूर्ख व्यक्ति का शिकार) से शुरुआत होती थी, जिसमें लोगों को मूर्ख का प्रतीक समझे जाने वाले पक्षी का चित्र भेजना शामिल था। दूसरे दिन टेली डे होता था, जब लोग लोगों के पीछे पूंछ या ‘किक मी’ जैसे संकेत चिपकाकर उनका मजाक उड़ाते थे।

जैसे-जैसे समय बदला। अप्रैल फूल मीडिया में भी पॉपुलर हो गया। 1957 में BBC ने रिपोर्ट दी कि स्विस किसानों ने नूडल्स की फसल उगाई है। इस पर हजारों लोगों ने BBC को फोन लगाकर किसानों और फसल के बारे में पूछताछ की थी। 1996 में फास्ट-फूड रेस्टोरेंट चेन टैको बेल ने यह कहकर लोगों को बेवकूफ बनाया कि उसने फिलाडेल्फिया की लिबर्टी बेल खरीद ली है और उसका नाम टैको लिबर्टी बेल रख दिया है। गूगल भी पीछे नहीं रहा। टेलीपैथिक सर्च से लेकर गूगल मैप्स पर पैकमैन खेलने तक की घोषणाएं कर यूजर्स को बेवकूफ बना चुका है।

स्टीव वोजनाइक (बाएं) और स्टीव जॉब्स 1976 में ऐपल-I सर्किट बोर्ड के साथ।

स्टीव वोजनाइक (बाएं) और स्टीव जॉब्स 1976 में ऐपल-I सर्किट बोर्ड के साथ।

स्टीव जॉब्स, स्टीव वोजनियाक और रोनाल्ड वेन ने एपल बनाई

यह अप्रैल फूल कतई नहीं है, बल्कि पूरी तरह सच है। 1 अप्रैल 1976 को स्टीव जॉब्स, स्टीव वोजनियाक और रोनाल्ड वेन ने एपल की स्थापना की। इसके बाद से यह कंपनी एक मल्टीनेशनल कंपनी बनकर उभरी। इसके सबसे लोकप्रिय प्रोडक्ट्स में आईफोन, आईपैड, मैकबुक शामिल हैं। पिछले साल एपल इंक का वैल्युएशन 2 ट्रिलियन डॉलर यानी 146 लाख करोड़ हो चुका था।

भारत में 2018 में समलैंगिक संबंधों को अपराध बताने वाले कानून को रद्द कर दिया गया। इसके बाद भी समलैंगिक विवाहों की इजाजत नहीं है। मद्रास हाईकोर्ट एक समलैंगिक जोड़े की याचिका पर सुनवाई कर रहा है।

भारत में 2018 में समलैंगिक संबंधों को अपराध बताने वाले कानून को रद्द कर दिया गया। इसके बाद भी समलैंगिक विवाहों की इजाजत नहीं है। मद्रास हाईकोर्ट एक समलैंगिक जोड़े की याचिका पर सुनवाई कर रहा है।

नीदरलैंड बना समलैंगिक विवाहों को अनुमति देने वाला पहला देश

2001 में आज ही के दिन नीदरलैंड्स समलैंगिक विवाहों को अनुमति देने वाला पहला देश बना था। पिउ रिसर्च सेंटर के मुताबिक आज दुनिया के 29 देशों में समलैंगिक विवाहों को अनुमति है। इनमें नीदरलैंड के अलावा न्यूजीलैंड, यूके, अमेरिका समेत अन्य देश शामिल हैं। भारत में समलैंगिक विवाह कानूनी तौर पर वैध नहीं है।

देश-दुनिया में 1 अप्रैल को हुई प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं-

  • 2010 में भारत ने जनगणना शुरू की। यह एक साल चली। इस दौरान आधार कार्ड बनाने की प्रक्रिया शुरू हुई।
  • 1976 में दूरदर्शन को आकाशवाणी से अलग कर दूरदर्शन कॉर्पोरेशन की स्थापना हुई।
  • 1969 में भारत का पहला न्यूक्लियर एनर्जी स्टेशन महाराष्ट्र के तारापुर क्षेत्र में शुरू हुआ।
  • 1936 में ओडिशा को बिहार से अलग करके नया राज्य बनाया गया।
  • 1935 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने काम करना शुरू किया। इसके लिए अंग्रेजों ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एक्ट 1934 कानून बनाया था।
  • 1933 में पाकिस्तान के कराची में भारतीय वायु सेना की स्थापना की गई।
  • 1930 में देश में विवाह के लिए लड़कियों की न्यूनतम उम्र चौदह और लड़कों की अठारह वर्ष की गई।
  • 1924 में एडोल्फ हिटलर को बीयर हॉल क्रान्ति में भाग लेने के लिए 5 साल कैद की सजा सुनाई गई, लेकिन वह केवल 9 महीने तक जेल में रहे।
  • 1912 में दिल्ली को भारत की राजधानी और एक प्रांत घोषित किया गया।
  • 1891 में फ्रांस की राजधानी पेरिस और ब्रिटेन की राजधानी लंदन के बीच टेलीफोन संपर्क शुरू हुआ।
  • 1839 में कोलकाता मेडिकल कॉलेज और अस्पताल शुरू हुआ था।
  • 1793 में जापान में ‘उनसेन’ नाम का ज्वालामुखी फटने की वजह से करीब 53 हजार लोगों की मौत हो गई।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply