जीते जी बेटी का अंतिम संस्कार: झारखंड में 25 साल की लड़की ने चचेरे भाई से लव मैरिज की; पिता ने पुतला बनाकर शव यात्रा निकाली, मां ने भी दिया अर्थी को कंधा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चतरा6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
बेटी से दुखी परिजनों ने उसका पुतला बना किया अंतिम संस्कार। - Dainik Bhaskar

बेटी से दुखी परिजनों ने उसका पुतला बना किया अंतिम संस्कार।

झारखंड में चतरा जिले के टंडवा में शनिवार को एक पिता ने अपनी जीवित बेटी की शव यात्रा निकाली। हालांकि, ये शव यात्रा सिर्फ प्रतीकात्मक थी। इसमें अर्थी पर बेटी के शव की जगह उसके पुतले को रखा गया था। लड़की की मां ने अर्थी को कंधा भी दिया। इसके बाद उस पुतले का पूरी रीति-रिवाज के साथ अंतिम संस्कार कर दिया। हैरानी की बात ये है कि आखिरकार एक पिता ने ऐसा क्यों किया?

दरअसल, धनगडा पंचायत के खरीका गांव में रहने वाली सबिता (25) ने गांव में ही रहने वाले चचेरे भाई से लव मैरिज कर ली। माता-पिता समेत अन्य परिजन ने उसे समझाने को लेकर हर कोशिश की। घर वालों के काफी समझाने के बाद भी जब लड़की नहीं मानी। लड़की की कहीं और सगाई भी हो चुकी थी।

मामला थाने तक पहुंचा, लेकिन वहां भी सबिता अपने प्रेमी राजदीप के साथ ही जिंदगी बिताने पर अड़ी रही। इसके बाद लड़की के पिता ने बेटी का अंतिम संस्कार करने का फैसला किया। इसके बाद परिजनों ने लड़की के जिंदा रहते हुए उसका पुतला बना अंतिम संस्कार कर दिया।

परिजनों का कहना है कि बेटी के इस गलत कदम से समाज में हमारी बेइज्जती हुई है। बताया गया कि युवती की शादी अच्छे घराने में होने वाली थी, जिसकी सगाई भी हो चुकी थी। ग्रामीणों के मुताबिक, युवती का प्रेम-प्रसंग राजदीप के साथ कई वर्षों से चल रहा था।

दोनों रांची में रह कर कॉलेज में पढ़ाई करते थे। इसके बाद रिश्ते में भाई-बहन होने के बावजूद दोनों ने फरवरी में शादी कर ली।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply