महाराष्ट्र के गृह मंत्री पर शिवसेना का हमला: मुखपत्र सामना में संजय राउत ने लिखा- वझे की वसूली की जानकारी नहीं हो, ऐसा कैसे हो सकता है; दुर्घटनावश गृह मंत्री बने देशमुख

  • Hindi News
  • National
  • In The Mouthpiece Saamna, Sanjay Raut Wrote I Am Not Aware Of His Recovery, How Can This Happen; Deshmukh Becomes Accidental Home Minister, Shiv Sena Attack On Maharashtra Home Minister

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
शिवसेना के सांसद संजय राउत ने रविवार को मुखपत्र सामना के जरिए महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर पर सवाल उठाए हैं। वहीं, विपक्ष को भी जता दिया कि लाख कोशिश कर लो महा विकास अघाड़ी (MVA) की सरकार नहीं गिरेगी। - Dainik Bhaskar

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने रविवार को मुखपत्र सामना के जरिए महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर पर सवाल उठाए हैं। वहीं, विपक्ष को भी जता दिया कि लाख कोशिश कर लो महा विकास अघाड़ी (MVA) की सरकार नहीं गिरेगी।

रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास विस्फोटक लदी स्कॉर्पियो, सस्पेंडेड पुलिस अधिकारी सचिन वझे और गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगे वसूली के आरोपों से घिरी महाराष्ट्र सरकार की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं। विपक्ष के हमलों के बाद शिवसेना के सांसद संजय राउत ने रविवार को मुखपत्र सामना के जरिए महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर पर सवाल उठाए हैं। वहीं, विपक्ष को भी जता दिया कि लाख कोशिश कर लो महा विकास अघाड़ी (MVA) की सरकार नहीं गिरेगी।

सचिन वझे को इतने अधिकार किसने दिए?
संजय राउत ने लेख में पूछा है कि अाखिर सस्पेंड पुलिस अधिकारी सचिन वझे की वसूली की जानकारी गृह मंत्री को कैसे नहीं हुई? राउत ने आगे लिखा कि आखिर असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर (API) स्तर के अधिकारी सचिन वाजे को इतने अधिकार किसने दिए? यही जांच का विषय है। पुलिस कमिश्नर, गृह मंत्री, मंत्रिमंडल के प्रमुख लोगों का दुलारा व विश्वासपात्र रहा सचिन वझे महज एक API था लेकिन उसे सरकार में असीमित अधिकार किसके आदेश पर दिया गया।

सीनियर नेताओं के इन्कार के बाद देशमुख बने मंत्री
राउत ने आगे लिखा कि NCP के सीनियर नेताओं जयंत पाटिल और दिलीप वलसे पाटिल ने गृह मंत्री का पद लेने से इन्कार कर दिया था। इसलिए शरद पवार ने अनिल देशमुख को गृह मंत्री बना दिया। आज मौजूदा सरकार के पास ‘डैमेज कंट्रोल’ की कोई योजना नहीं है। संदिग्ध व्यक्ति के घेरे में रहकर राज्य के गृह मंत्री पद पर बैठा कोई भी व्यक्ति काम नहीं कर सकता है। पुलिस विभाग पहले ही बदनाम है। उस पर इतने सारे आरोपों से संदेह बढ़ता है।

देशमुख ने कुछ वरिष्ठ अधिकारियों से बेवजह पंगा लिया
लेख में आगे बताया गया कि गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कुछ वरिष्ठ अधिकारियों से बेवजह पंगा लिया। गृहमंत्री को कम-से-कम बोलना चाहिए। बेवजह कैमरे के सामने जाना और जांच का आदेश जारी करना अच्छा नहीं है। ‘सौ सुनार की एक लोहार की’ ऐसा बर्ताव गृहमंत्री का होना चाहिए। पुलिस विभाग का नेतृत्व सिर्फ ‘सैल्यूट’ लेने के लिए नहीं होता है। वह प्रखर नेतृत्व देने के लिए होता है। प्रखरता ईमानदारी से तैयार होती है, ये भूलने से कैसे चलेगा?

…तो मोदी सरकार पहले गिरेगी
संजय राउत ने सामना में लिखा कि महाराष्ट्र में विपक्ष को उद्धव ठाकरे की सरकार गिराने की जल्दबाजी है, इसलिए फटे हुए गुब्बारे में हवा भरने का काम वो कर रही है। उनके आरोप शुरुआत में जोरदार लगते हैं, बाद में गलत साबित होते हैं। लेकिन ऐसे आरोपों के कारण सरकार गिरने लगे तो केंद्र की मोदी सरकार को पहले जाना होगा।

राजभवन की प्रतिष्ठा पर भी सवाल उठाया
राउत ने राजभवन की प्रतिष्ठा पर भी सवाल खड़ा किया। उन्होंने लिखा कि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने इस पूरे दौर में क्या किया? ठाकरे सरकार जल्दी से गिर जाए इसके लिए राज्यपाल राजभवन के समुद्र में बैठकर ईश्वर का जलाभिषेक कर रहे हैं। एंटीलिया और परमबीर सिंह की चिट्‌ठी के बाद राज्यपाल सरकार गिरने की उम्मीद लगाकर बैठे थे। उस पर भी पानी फिर गया। महाराष्ट्र के भाजपा नेता आए दिन राज्यपाल से मिल रहे हैं। दिल्ली जाकर प्रेस कांफ्रेंस करते हैं। सरकार की बर्खास्तगी की मांग कर रहे हैं, इससे राजभवन की प्रतिष्ठा भी कलंकित हुई है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply