ग्लोबल क्लाइमेट समिट अगले महीने: अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन ने मोदी समेत 40 वर्ल्ड लीडर्स को न्यौता भेजा; इसमें जिनपिंग और पुतिन का नाम भी शामिल

  • Hindi News
  • International
  • Joe Biden Invites 40 Leaders | Online Summit On The Climate Crisis, Narendra Modi, Vladimir Putin, Xi Jinping, World Leaders In Online Summit, USA, US President Biden, PM Modi

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटन2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अगले महीने होने वाली क्लाइमेट क्राइसिस को लेकर होने वाली ग्लोबल क्लाइमेट समिट के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत दुनिया के 40 बड़े नेताओं को न्यौता भेजा है। खास बात यह है कि इस लिस्ट में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन का नाम भी शामिल है।

22 और 23 अप्रैल को वर्चुअल समिट
मौजूदा समय में कोरोना के साथ ही वैश्विक स्तर पर क्लाइमेट चेंज भी चिंता का विषय बना हुआ है। इस पर चर्चा के लिए बाइडेन की ओर से ग्लोबल क्लाइमेट समिट का आयोजन किया जा रहा है। समिट 22 और 23 अप्रैल को ऑनलाइन होनी है और लोगों के लिए लाइव प्रसारित की जाएगी। व्हाइट हाउस की तरफ से कहा गया कि ग्लासगो में नवंबर में हुए युनाइटेड नेशंस क्लाइमेट चेंज कॉन्फ्रेंस (COP26) की दिशा में यह एक अहम कदम होगा।

इन्हें भी न्यौता भेजा गया
समिट में जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन समेत कई यरोपिययन लीडर्स को भी न्यौता भेजा गया है। सऊदी के किंग सलमान-बिन-अब्दुलाजीज, ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो और तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप ताईप इर्डोगन भी इसमें हिस्सा लेंगे।

व्यापारिक और नागरिक समाज के नेता भी शामिल होंगे
व्हाइट हाउस ने नेताओं से आग्रह किया कि वे समिट को इस अवसर के रूप देखें कि उनका देश कैसे दुनिया की मजबूत जलवायु महत्वाकांक्षा में योगदान दे सकता है। बाइडेन ने अन्य देशों के प्रमुखों को भी आमंत्रित किया, जो मजबूत जलवायु नेतृत्व का प्रदर्शन कर रहे हैं। व्हाइट हाउस ने कहा कि समिट में बड़ी संख्या में व्यापारिक और नागरिक समाज के नेता भी भाग लेंगे।

जीवाश्म ईंधन से होने वाले प्रदूषण पर लगेगी रोक
बाइडेन प्रशासन क्लाइमेट ऑन लीडर्स समिट के लिए पूरी तरह से तैयार है। इस समिट में जलवायु परिवर्तन को ध्यान में रखते हुए कई बड़े निर्णय लिए जा सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक, प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि इस समारोह के जरिए अमेरिका जीवाश्म ईंधन से होने वाले जलवायु प्रदूषण को कम करने के लिए अहम कदम उठा सकता है।

समिट में क्लाइमेट चेंज के प्रभावों से जीवन और आजीविका की रक्षा करने की क्षमता को मजबूत करने के अवसरों पर चर्चा होगी। इसके अलावा क्लाइमेट चेंज से उत्पन्न वैश्विक सुरक्षा चुनौतियों और तत्परता पर प्रभाव पर भी चर्चा की जाएगी।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply