सच्चाई छिपाने की कोशिश: चीन में तीन ब्लॉगर समेत 7 लोग गिरफ्तार, इन पर गलवान में मारे गए सैनिकों की बेइज्जती का आरोप

  • Hindi News
  • International
  • India China Ladakh Galwan Valley Clash Update; Three Bloggers Arrested For Insulting PLA Soldiers

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीजिंगएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
गलवान में हुई हिंसक झड़प से जुड़ा एक वीडियो चीन ने पिछले दिनों जारी किया था। यह फोटो उसी वीडियो फुटेज से लिया गया है। (फाइल) - Dainik Bhaskar

गलवान में हुई हिंसक झड़प से जुड़ा एक वीडियो चीन ने पिछले दिनों जारी किया था। यह फोटो उसी वीडियो फुटेज से लिया गया है। (फाइल)

चीन ने गलवान घाटी में मारे गए सैनिकों के अपमान के आरोप तीन ब्लॉगर समेत कुल सात लोगों को गिरफ्तार किया है। लद्दाख की गलवान घाटी में पिछले साल 15 जून को भारतीय और चीनी सैनिकों की हिंसक झड़प हुई थी। इसमें हमारे 20 जवान शहीद हो गए थे। वर्ल्ड मीडिया के मुताबिक, चीन के 45 सैनिक मारे गए थे। करीब 8 महीने बाद आधिकारिक तौर पर उसने सिर्फ चार सैनिकों के मारे जाने की बात कबूल की है।

सरकार से सवाल नहीं कर सकते
‘इकोनॉमिक ऑब्जर्वर’ अखबार के इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट क्यू जिमिंग भी गिरफ्तार लोगों में शामिल हैं। उन्हें नानजिंग प्रांत से गिरफ्तार किया गया। क्यू ने सोशल मीडिया पर मारे गए चीनी सैनिकों की सही संख्या जाननी चाही थी। उन्होंने कहा था कि जो सैनिक मारे गए हैं और जो कमांडर गंभीर रूप से घायल है, उनकी भी सही पहचान बताई जानी चाहिए। चीन के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म बीवो पर क्यू के 25 लाख फॉलोअर हैं। चीन में ट्विटर की जगह माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म बीवो ही है।

सरकार ने आठ महीने सच क्यों छिपाया
क्यू ने सोशल मीडिया पर सरकार के इरादों पर सवालिया निशान लगाए। पूछा- सरकार यह बताए कि जब भारत ने अपने सैनिकों के शहीद होने की बात घटना के फौरन बाद स्वीकार कर ली थी तो हमारी सरकार ने 8 महीने क्यों लगाए। कहीं ऐसा तो नहीं कि भारत ने कम नुकसान झेलकर बड़ा फायदा हासिल कर लिया हो।

क्यू की गिरफ्तारी पर पुलिस ने कहा- वे सोशल मीडिया पर गलत जानकारी दे रहे हैं। उन्होंने हमारे सैनिकों का अपमान किया है। ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, क्यू ने अपने ऊपर लगे आरोप कबूल कर लिए हैं। उनका सोशल मीडिया अकाउंट बंद कर दिया गया है।

और लोगों पर भी सख्ती
वीचैट पर इसी मामले का जिक्र करने वाले 28 साल के एक और ब्लॉगर को भी अरेस्ट किया गया है। इसका सरनेम चेन बताया गया है। आरोप है कि इस ब्लॉगर ने भी भारत की घुसपैठ और चीनी सैनिकों के मारे जाने पर भ्रामक जानकारी शेयर की थी। इसके अलावा एक और ब्लॉगर को सिचुआन प्रांत से गिरफ्तार किया गया है। बाकी चार लोगों के बारे में फिलहाल जानकारी नहीं दी गई।

Source link

Leave a Reply