श्रीदेवी की डेथ एनिवर्सरी: 4 साल की उम्र में फिल्मों में काम करने लगी थीं श्रीदेवी, एक्टिंग से इतना लगाव था कि पिता के अंतिम संस्कार के बाद तुरंत शूटिंग पर लौट गई थीं

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आज श्रीदेवी की तीसरी डेथ एनिवर्सरी है। अपने फिल्मी करियर में 300 फिल्मों में काम करने वाली श्रीदेवी अब हमारे बीच नहीं हैं। 24 फरवरी, 2018 को श्रीदेवी की दुबई के होटल के बाथटब में डूबने से मौत हो गई थी। श्रीदेवी की लाइफ को लेकर कई किस्से सुनने को मिलते हैं। इन्हीं में से 6 दिलचस्प फैक्ट्स…

टॉप अभिनेत्री रहीं जयललिता के साथ काम किया

1967 में आई तमिल फिल्म थुनाइवन में श्रीदेवी लॉर्ड मुरुगा के किरदार में थीं। तब उनकी उम्र 4 साल थी। फिल्म में उन्होंने उस जमाने की टॉप अभिनेत्री जयललिता के साथ काम किया। श्रीदेवी ने 1975 में फिल्म जूली से डेब्यू किया था। इसमें वे चाइल्ड आर्टिस्ट के किरदार में नजर आई थीं।

चालबाज के एक गाने की शूटिंग 103 डिग्री बुखार में की

काम को लेकर समर्पण के मामले में श्रीदेवी हमेशा बाकी अभिनेत्रियों की तुलना में आगे रहीं। अपने पिता की मौत के वक्त वे लंदन में शूटिंग कर रही थीं। उन्हें पिता की मौत की खबर मिली तो भारत लौटीं और पिता के अंतिम संस्कार के बाद तुरंत लंदन लौट गईं और शूटिंग शुरू कर दी। इसके अलावा ‘चालबाज’ की शूटिंग के दौरान भी उन्हें 103 डिग्री बुखार था लेकिन उन्होंने आराम नहीं किया और पूरे जोश के साथ एक गाने की शूटिंग पूरी की।

मां ने 10 लाख फीस मांगी, बोनी ने 11 लाख में श्रीदेवी को साइन किया

श्रीदेवी को बोनी कपूर ने 70 के दशक में एक तमिल फिल्म में देखा था। बोनी को उनसे पहली नजर में प्यार हो गया था। बोनी कपूर और श्रीदेवी की कहानी मिस्टर इंडिया फिल्म के साथ शुरू हुई थी। श्रीदेवी ने स्क्रिप्ट सुनने के लिए ही बोनी को 10 दिन इंतजार कराया था। श्रीदेवी को साइन करने के लिए उनकी मां ने 10 लाख की फीस बताई। शायद उन्हें टरकाने के लिए तो बोनी ने कहा कि, मैं 11 लाख दूंगा।

2 घंटे कमरे में बंद रहीं जयाप्रदा- श्रीदेवी, लेकिन बात नहीं की

श्रीदेवी की सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा जयाप्रदा से रहा करती थी। दोनों एक-दूसरे को देखना और बात करना तक पसंद नहीं करती थीं। एक बार दोनों के बीच पैचअप कराने के मकसद से राजेश खन्ना और जितेंद्र ने उन्हें 2 घंटे कमरे में बंद कर दिया। जब दरवाजा खोला गया तो पता चला कि दोनों अलग-अलग कोनों पर बैठी थीं। एक ही कमरे में रहकर भी दोनों ने बात करना तो दूर, एक-दूसरे की तरफ देखा तक नहीं।

जुरासिक पार्क के लिए स्पीलबर्ग को मना कर दिया

मशहूर निर्देशक स्पीलबर्ग ने श्रीदेवी को एक रोल के लिए चुना था, लेकिन श्रीदेवी ने उन्हें सीधे इनकार कर दिया था। श्रीदेवी की शख्सियत का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि उन्होंने हॉलीवुड की मशहूर फिल्म जुरासिक पार्क ठुकरा दी थी। श्रीदेवी को भारतीय फिल्मों से ही लगाव था। इसके बाद भी उनके पास हॉलीवुड फिल्मों के कई ऑफर आए, लेकिन उन्होंने इसमें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई।

महाकाल की भक्त थीं, सुबह-शाम पूजा करती थीं

श्रीदेवी की महाकाल मंदिर और मीनाक्षी मंदिर में गहरी आस्था थीं। ऑउटडोर शूटिंग को छोड़ वे हर दिन पूजा जरूर करती थीं। श्रीदेवी जब भी मध्यप्रदेश आतीं उज्जैन जरूर जाती थीं। वे महाकाल की भक्त थीं और सुबह शाम पूजा करतीं। अपनी फिटनेस के लिए वर्कआउट और योगा करतीं। वे जिस भी शहर जातीं वे हेयरस्पा ज़रूर कराती थीं।

Source link

Leave a Reply