सड़क पर 2 दिन पड़ा रहा शव: रीवा में एक्सीडेंट में मारे गए बुजुर्ग के शव को कुचलती रहीं गाड़ियां, हड्डियां तक पोटली में भरकर लाई गईं

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • For 3 Days After The Accident, The Vehicle Passed Over The Corpse Of The Elderly, Police Found Nothing But Fragments Of Bones.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रीवाकुछ ही क्षण पहले

  • कॉपी लिंक
रोड पर 2 दिन तक पड़े रहने के बाद बुजुर्ग के शरीर की हड्डियां ही बची थीं, वे भी बुरी तरह चकनाचूर हो चुकी थीं। - Dainik Bhaskar

रोड पर 2 दिन तक पड़े रहने के बाद बुजुर्ग के शरीर की हड्डियां ही बची थीं, वे भी बुरी तरह चकनाचूर हो चुकी थीं।

मध्यप्रदेश के रीवा में एक बुजुर्ग की लाश को दो दिन तक गाड़ियां कुचलती रहीं। चुरहट में हुई इंसानी शरीर की इस दुर्गति की भनक न तो पुलिस पेट्रोलिंग टीम को लगी, न ही सड़क मेंटेनेंस वालों को। घटना के तीसरे दिन सुबह एक राहगीर ने सड़क पर मैले-कुचले कपड़े देखकर पड़ताल की, तो पाया कि कपड़ों के आसपास मक्खियां भिनभिना रही थीं। कपड़ा हटाने पर वहां हडि्डयां ही हडि्डयां दिखीं। राहगीर की सूचना पर पुलिस पहुंची और खुलासा हुआ कि हड्डियां इंसान की थीं।

पुलिस के मुताबिक, बुजुर्ग की पहचान सतना जिले के सोनवर्षा गांव में रहने वाले 75 साल के संपतलाल के तौर पर हुई है। वे 17 फरवरी को रीवा जिले के चोरहटा में रहने वाली अपनी बेटी के घर जा रहे थे। संपतलाल गांव से से ट्रैक्टर पर बैठकर आए। रामनगर से वे बस में सवार हुए। बस से रीवाके शॉर्किन बायपास पर उतरकर पैदल बेटी के गांव जाने लगे। इसी दौरान किसी गाड़ी ने उन्हें टक्कर मारी और कुचलते हुए निकल गई।

पूरी रात और दिन होती रही दुर्गति
कहने को हाईवे पर पेट्रोलिंग और पुलिस की गश्त होती है, लेकिन घटना के बीद किसी ने उनकी सुध नहीं ली। पूरी रात गाड़ियां बुजुर्ग के शव को कुचलती रहीं। अगली सुबह तक मांस और अंग कुचले जाने के कारण सिर्फ उनके कपड़े, कंबल और हडि्डयां बचीं। दूसरे दिन भी गाड़ियां उनके अवशेषों के ऊपर से गुजरती रहीं।

कपड़े में बांधकर लानी पड़ी हडि्डयां
हाईवे पर एक बुजुर्ग की हड्डियां पड़ी होने की सूचना एक राहगीर के जरिए 20 फरवरी को पुलिस तक पहुंची। तब तक लगातार गाड़ियों के नीचे कुचले जाने से हड्डियां भी टुकड़ों में बंट चुकी थीं। हालत ये थी कि इन्हें समेटकर कपड़े में बांधना पड़ा।

परिवार ने कंबल-कपड़ों से की शिनाख्त
घर से निकलने के बाद दो दिन तक बेटी के घर न पहुंचने पर संपतलाल के परिजन उनकी खोज कर रहे थे। पुलिस के पास पहुंचने पर उन्हें बुजुर्ग के कपड़े और कंबल से उनकी पहचान की। पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए हडि्डयों को संजय गांधी अस्पताल भिजवाया है। अभी तक बुजुर्ग को टक्कर मारने वाली गाड़ी का पता भी नहीं चल पाया है।

Source link

Leave a Reply