दिशा की जमानत याचिका पर सुनवाई: पुलिस ने कोर्ट में कहा- मामला सिर्फ टूलकिट का नहीं, असली मकसद भारत को बदनाम करना और अशांति फैलाना था

  • Hindi News
  • National
  • Disha Ravi Toolkit Case Bail Hearing Update | Kisan Andolan (Farmers Protest) Latest News And Updates

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
दिल्ली पुलिस ने 14 फरवरी को दिशा को अरेस्ट किया था। वह 3 दिन की पुलिस रिमांड पर हैं। - Dainik Bhaskar

दिल्ली पुलिस ने 14 फरवरी को दिशा को अरेस्ट किया था। वह 3 दिन की पुलिस रिमांड पर हैं।

किसान आंदोलन से जुड़ी टूलकिट के मामले में गिरफ्तार क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि की जमानत याचिका पर दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई हो रही है। इसमें पुलिस ने कोर्ट को बताया कि यह पूरा मामला सिर्फ टूलकिट का नहीं था। इसका असली मकसद भारत को बदनाम करना और अशांति फैलाना था। दिशा ने वॉट्सऐप चैट डिलीट की, क्योंकि उसे लीगल एक्शन का डर था। इससे यह पता चलता है कि टूलकिट के पीछे बहुत बड़ी साजिश थी।

पुलिस ने बताया कि भारत को बदनाम करने की ग्लोबल साजिश में दिशा भी शामिल है। किसान आंदोलन की आड़ में माहौल बिगाड़ने की कोशिश थी। दिशा ने सिर्फ टूलकिट बनाई और शेयर नहीं की, बल्कि वह खालिस्तान की वकालत करने वाले के संपर्क में भी थी।

कोर्ट ने पूछा- आपके पास क्या सबूत है कि टूलकिट और 26 जनवरी को हुई हिंसा में कोई कनेक्शन है। इस पर दिल्ली पुलिस ने कहा कि अभी जांच चल रही है। हमें इनकी तलाश करनी है।

3 दिन की रिमांड पर हैं दिशा
पटियाला हाऊस कोर्ट ने दिशा को शुक्रवार को 3 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। इससे पहले वह 5 दिन की रिमांड पर थीं, जो 19 फरवरी को खत्म हो रही थी। इसलिए पुलिस ने 3 दिन की और रिमांड मांगी थी।

सुनवाई के दौरान पुलिस ने कोर्ट को बताया था कि दिशा ने मामले में सह आरोपी शांतनु और निकिता जैकब पर सारे आरोप डाल दिए थे। लिहाजा, हम 22 फरवरी को दिशा, शांतनु और निकिता को आमने-सामने बैठाकर बातचीत कराना चाहते हैं।

दिशा के समर्थन में आईं ग्रेटा थनबर्ग
इंटरनेशनल क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने भी दिशा रवि का समर्थन किया है। उन्होंने शुक्रवार को सोशल मीडिया पर लिखा कि बोलने की आजादी और शांतिपूर्ण विरोध के अधिकार के साथ कोई समझौता नहीं हो सकता। किसी भी लोकतंत्र में यह मूल अधिकार होना चाहिए।

इससे पहले ग्रेटा ने 3 फरवरी को ट्विटर पर किसान आंदोलन से जुड़ी टूलकिट शेयर की थी। इसके अगले दिन उन्होंने एक ट्वीट कर कहा था कि कोई भी ताकत उन्हें किसानों का समर्थन करने से रोक नहीं सकती।

14 फरवरी को दिशा को अरेस्ट किया गया
दिल्ली पुलिस ने 14 फरवरी को दिशा को अरेस्ट किया था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, फ्राइडे फॉर फ्यूचर कैम्पेन शुरू करने वालों में शामिल दिशा ने टूलकिट का गूगल डॉक बनाकर उसे सर्कुलेट किया। इसके लिए उन्होंने वॉट्सऐप ग्रुप बनाया था। वे इस टूलकिट की ड्राफ्टिंग में भी शामिल थीं और उन्होंने ही ग्रेटा थनबर्ग से टूलकिट शेयर की थी।

Source link

Leave a Reply