LAC पर सुलह की कोशिश: भारत और चीन के बीच कमांडर लेवल की 10वीं बैठक कल, डिसएंगेजमेंट के बाद के हालात पर बात होगी

  • Hindi News
  • International
  • India China Commander Level Talks Latest Update; After Nine Months Of Border Standoff In Eastern Ladakh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली26 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
तनाव के दौरान दोनों सेनाओं ने टैंक समेत दूसरे भारी हथियार तैनात कर दिए थे। डिसएंगेजमेंट के तहत 
इन्हें पीछे कर लिया गया है। - Dainik Bhaskar

तनाव के दौरान दोनों सेनाओं ने टैंक समेत दूसरे भारी हथियार तैनात कर दिए थे। डिसएंगेजमेंट के तहत इन्हें पीछे कर लिया गया है।

ईस्टर्न लद्दाख में पैगॉन्ग लेक एरिया में डिसएंगेजमेंट के बाद के हालात पर भारत और चीन के मिलिट्री ऑफिसर्स मीटिंग करेंगे। कमांडर लेवल की यह मीटिंग शनिवार सुबह 10 बजे से शुरू होगी। तनाव कम करने के लिए दोनों पक्षों 10वीं बार मिलेंगे। यह बैठक चीन की साइड वाले मॉल्डो एरिया में होगी।

समझौते के तहत पीछे हट रही चीनी सेना
पूर्वी लद्दाख की पैंगॉन्ग लेक से चीनी आर्मी पीछे हटने लगी है। भारतीय सेना ने मंगलवार को डिसएंगेजमेंट के फोटो और वीडियो जारी किए थे। इसमें चीन की आर्मी अपना सामान लेकर लौटती दिख रही है। इतना ही नहीं, चीनी सेना ने इन इलाकों से अपने बंकर तोड़ डाले। साथ ही टेंट, तोप और गाड़ियां भी हटा ली हैं। करीब 10 महीने से यहां चीन की सेना ने कब्जा किया था।

एक महीने पहले हुई थी 9वें दौर की बातचीत
भारत और चीन के बीच कोर कमांडर लेवल की 9वीं बातचीत करीब एक महीने पहले हुई थी। यह मीटिंग ईस्टर्न लद्दाख में चुशूल सेक्टर के सामने मॉल्डो में हुई थी। इस इलाके में दोनों सेनाओं के बीच कई महीने से तनाव चल रहा था। इसे सुलझाने के लिए हुई 8 बार की बातचीत में कोई खास नतीजा नहीं निकला था। 9वीं बैठक में डिसएंगेजमेंट के समझौते पर सहमति बन गई।

कई महीनों से आमने-सामने थे सैनिक
गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद से भारत और चीन के रिश्ते खराब चल रहे हैं। दोनों की सेनाएं भारी हथियारों और हजारों सैनिकों के साथ आमने-सामने हैं। भारत ने आर्मी, एयरफोर्स और नेवी तीनों के खतरनाक कमांडो इस इलाके में तैनात कर रखे हैं। फाइटर जेट कई महीने से लगातार उड़ान भर रहे हैं। लंबी तैनाती के हिसाब से भारत ने रसद समेत दूसरा जरूरी सामान पहले ही पहुंचा दिया था।

Source link

Leave a Reply