मां तुम धन्य हो: शहीद बेटे का गैलेंट्री अवॉर्ड लेने आई 70 साल की मां लेफ्टिनेंट जनरल से बोलीं- दूसरे बेटे को भी फौज में लगा लो

  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Alwar
  • The 70 year old Mother Of 25 year old Martyr Son Hemraj Came To Receive The Gallantry Award, Bid For The Second Son Banshi’s Army To Speak To The General Of South Western Command.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अलवर22 मिनट पहले

लेफ्टिनेंट जनरल अलोक क्लेर ने शहीद हेमराज की मां को दो बार सैल्यूट किया। दूसरे सैल्यूट के समय कहा भी कि आपको दो बार सैल्यूट करने का मन कर रहा है।

‘मेरे दूसरे बेटे का नाम बंशी है जिनै फौज में लग्या दो। ताकि म्हारो बुढ़ापो और सुधर जावै।’ यह कहना सहज नहीं है। उस मां के लिए जिसका एक बेटा हेमराज महज 25 साल की उम्र में और शादी के दो साल बाद ही शहीद हो गया हो। हेमराज की बहादुरी पर शुक्रवार को अलवर के ईटाराणा छावनी में दक्षिण-पश्चिमी कमान की ओर से हुए समारोह में गैलेंट्री अवॉर्ड दिया गया।

शहीद हेमराज जाट की मां दाखा देवी, जो अपने शहीद बेटे का गैलेंट्री अवॉर्ड लेने आईं।

शहीद हेमराज जाट की मां दाखा देवी, जो अपने शहीद बेटे का गैलेंट्री अवॉर्ड लेने आईं।

अजमेर जिले के भदूण (रूपनगढ़) निवासी हेमराज जाट की मां दाखा देवी अवॉर्ड लेने के लिए आईं तो वहां मौजूद सभी की आंखें नम हो गईं। समारोह में ऐसे 15 और बहादुर अफसरों और जवानों को सेना मेडल देकर सम्मानित किया गया, जिन्होंने देश की माटी की खातिर अपनी जान की परवाह नहीं की।

बेटे का अवॉर्ड लेने मां आईं तो सबकी आंखें नम हो गईं
जब शहीद हेमराज की मां अपने बेटे का मरणोपरांत गैलेंट्री अवॉर्ड लेने आईं तो लेफ्टिनेंट जनरल अलोक क्लेर समेत दूसरे अफसर और सैनिकों की भी आंखें भर आईं। लेफ्टिनेंट जनरल ने हेमराज की मां को पहले सैल्यूट किया। फिर उनके हाथों में अवॉर्ड दिया। मां अपने छोटे-छोटे कदमों से बेटे का अवॉर्ड लेकर आगे बढ़ी तो यह दृश्य बेहद भावुक करने वाला रहा।

सेना के अधिकारियों ने शहीद हेमराज जाट की मां के साथ कुछ पल बिताए। इस दौरान उन्होंने दो बार लेफ्टिनेंट जनरल से अपने दूसरे बेटे को सेना में भेजने की इच्छा जताई।

सेना के अधिकारियों ने शहीद हेमराज जाट की मां के साथ कुछ पल बिताए। इस दौरान उन्होंने दो बार लेफ्टिनेंट जनरल से अपने दूसरे बेटे को सेना में भेजने की इच्छा जताई।

लेफ्टिनेंट जनरल ने शहीद की मां को दो बार सैल्यूट ​​​​​​किया
समारोह के बाद लेफ्टिनेंट जनरल क्लेर दोबारा दाखा देवी से मिले। कई अन्य अफसर भी उनके साथ फोटो लेने आए। कई अफसरों की पत्नियां भी हालचाल पूछती रहीं। इस दौरान लेफ्टिनेंट जनरल ने उन्हें दोबारा सैल्यूट किया। बकायदा यह बोला भी कि आपको दूसरी बार सैल्यूट करने का मन कर रहा है और सैल्यूट किया।

1 सितंबर 2019 को शहीद हुए थे हेमराज
ग्रेनेडियर हेमराज जाट 1 सितंबर 2019 को कश्मीर के पुंछ सेक्टर में पाकिस्तान से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे। हेमराज की पोस्ट पर पाकिस्तान ने फायरिंग शुरू कर दी थी। हेमराज ने मशीनगन से दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब दिया। दुश्मन को भारी नुकसान पहुंचाया। दुश्मन पर गोलीबारी करते समय एक स्पिलंटर उनकी गर्दन पर आकर लग गया। इलाज के दौरान वे शहीद हो गए। उनकी इस बहादुरी के कारण उन्हें यह गैलेंट्री अवार्ड दिया गया।

शहीद हेमराज जाट, जो कश्मीर में पाकिस्तान से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे। उन्हें मरणोपरांत सेना मेडल दिया गया

शहीद हेमराज जाट, जो कश्मीर में पाकिस्तान से लोहा लेते हुए शहीद हो गए थे। उन्हें मरणोपरांत सेना मेडल दिया गया

8 जवानों-अफसरों को मिला सेना मेडल
अलंकरण समारोह में हवलदार राजीव, सिपाही गुरुदेव सिंह, मेजर दीपक कुमार, सिपाही पुष्कर, विकास कुमार द्विवेदी, नगेन्द्र उद्यगोल, अर्जुन एम और मेजर दीपक कुमार को सेना मेडल से सम्मानित किया गया। ग्रेनेडियर हेमराज जाट को यह सम्मान मरणोपरांत दिया गया। इनके अलावा विशिष्ट मेडल, विशिष्ट सेवा मेडल, यूनिट प्रशंसा पत्र भी दिए गए।

Source link

Leave a Reply