बॉलीवुड और विवाद: विवादों से घिरी सुशांत की जिंदगी पर बनी फिल्म ‘न्यायः द जस्टिस’, इन फिल्मों ने भी रिलीज से पहले किया कंट्रोवर्सी का सामना

  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • ‘Nyaya: The Justice’, A Film On The Life Of Sushant, Surrounded By Controversies, These Films Also Faced Controversy Before Release.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

सुशांत सिंह राजपूत की जिंदगी पर बनी फिल्म न्यायः द जस्टिस रिलीज होने से पहले ही विवादों से घिर चुकी है। खुद को सुशांत का फैन बताने वाले मनीष मिश्रा ने याचिका दायर की है जिसमें उन्होंने मेकर्स पर तथ्यों के साथ छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही कई लोग इस फिल्म को बैन करने की मांग कर रहे हैं। न्याय फिल्म से पहले भी कई बॉलीवुड फिल्में को रिलीज से पहले ही लोगों के आक्रोश का सामना करना पड़ा चुका है। आइए जानते हैं वो फिल्में कौन सी हैं-

लक्ष्मी

अक्षय कुमार और कियारा आडवाणी स्टारर फिल्म लक्ष्मी 9 नवम्बर 2020 को डिजिटली डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज हुई है। इस फिल्म का ट्रेलर सामने आते ही लोगों ने फिल्म में मुस्लिम लड़का और हिंदू लड़की की लव स्टोरी को लव जिहाद से जोड़ना शुरू कर दिया था। पहले इस फिल्म का टाइटल लक्ष्मी बॉम्ब रखा गया था जिसपर एक्टर मुकेश खन्ना समेत कई राजनैतिक पार्टियों ने देवी के नाम के आगे बॉम्ब लगाए जाने पर आपत्ति जताई थी। विवाद इतना बढ़ा की फिल्म को बैन करने की मांग तक उठ गई। बाद में मेकर्स ने फिल्म का टाइटल लक्ष्मी बॉम्ब से लक्ष्मी कर दिया। ये फिल्म साउथ की फिल्म कंचना का हिंदी रीमेक है।

पदमावत​​​​​​​

​​​​​​​दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह और शाहिद कपूर स्टारर फिल्म पदमावत कई कारणों से विवादों में रही थी। करणी सेना ने पूरे देश में फिल्म रिलीज बैन करने के लिए विरोध प्रदर्शन किया था। लोगों का आरोप है कि फिल्म में कई तथ्यों को गलत तरीके से पेश किया गया है और साथ ही राजपूत समुदाय को गलत दिखाने की कोशिश की गई थी। विवादों में आने के बाद 1 दिसम्बर 2017 को रिलीज होने वाली इस फिल्म को डॉक्यूमेंटेशन की कमी के चलते रोक दिया गया था। बाद में कुछ सीन, और टाइटल में बदलाव कर फिल्म को 25 जनवरी 2018 में रिलीज किया गया था।

उड़ता पंजाब

फिल्म में पंजाब ड्रग एडिक्शन के बढ़ते मामलों पर रोशनी डाली गई थी। फिल्म में पंजाब की छवि खराब होते देख राज्य के लोग विरोध में उतरे थे। बाद में सेंसर बोर्ड ने 94 कट और 13 करेक्शन करवाने के बाद फिल्म को ए सर्टिफिकेट दिया था जिसमें सुधार के बाद फिल्म रिलीज हो सकी थी। कट में कई जगहों के नाम बदले गए थे।

मणिकर्णिका​​​​​​​​​​​​​​

​​​​​​​ झांसी की रानी लक्ष्मी बाई की जिंदगी पर आधारित फिल्म में कंगना रनोट ने मणिकर्णिका का लीड रोल निभाया था। फिल्म रिलीज से पहले सर्व ब्राह्मण महासभा ने इस फिल्म में रानी लक्ष्मी बाई के किरदार को गलत तरीके से पेश करने का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया था।

ऐ दिल है मुश्किल

ऐ दिल है मुश्किल फिल्म की रिलीज से कुछ ही दिनों पहले ऊरी अटैक हुआ था। इस अटैक के बाद से इंडिया और पाकिस्तान के बीच रिश्ते काफी खराब हो गए थे जिसके बाद सभी पाकिस्तानी आर्टिस्ट को बैन करने की मांग उठी थी। अक्टूबर 2016 में रिलीज हुई फिल्म में पाकिस्तान के पॉपुलर एक्टर फवाद खान भी अहम किरदार में थे जिसके चलते इस फिल्म को बैन करन की मांग करते हुए प्रोटेस्टर सड़कों पर उतर आए थे। प्रोटेस्टर्स ने ये तक धमकी दी थी कि अगर ये फिल्म सिनेमाघरों में लगी तो वो तोड़-फोड़ भी करेंगे।

गोलियों की रासलीला-राम-लीला

इस फिल्म का टाइटल पहले सिर्फ रामलीला रखा गया था। रामलीला की लवस्टोरी से तुलना होते देख हिंदु समुदाय के लोगों ने इसपर आपत्ति जताई थी। कई लोगों ने फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली पर हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाते हुए फिल्म रिलीज पर रोक की मांग की। इसके साथ ही क्षत्रीय कम्यूनिटी के लोगों फिल्म में कास्ट के लोगों की गलत छवि दिखाने पर भी नाराजगी जाहिर की थी जिसके बाद दिखाई गई कम्यूनिटी का नाम बदलकर रजाड़ी और सनेणा कर दिया गया था।

धर्म-संकट में

साल 2015 में रिलीज हुई फिल्म धर्म संकट सेंसेटिव मामला होने के कारण काफी विवादों में थी। फिल्म में दिखाया गया है कि धर्मपाल (परेश रावल) मुस्लिम वर्ग के खिलाफ बातें करता है। इसी बीच उसे अचानक पता चलता है कि उसके बायोलॉजिकल पैरेंट्स मुस्लिम थे और उसे हिंदु परिवार ने गोद लिया था। इसके बाद वो धर्म का असली मायने समझने के सफर पर निकलता है। नाजुक मुद्दा होने के कारण सेंसर बोर्ड ने हिंदु और मुस्लिम गुरुओं को बुलाकर फिल्म दिखाई थी जिससे वो इसे सुपरवाइज कर सकें। फिल्म के कुछ भडकाऊ बयानों को हटाने के बाद ही फिल्म रिलीज हो सकी थी।

हैदर​​​​​​​​​​​​​​

​​​​​​​शाहिद कपूर, श्रद्धा कपूर और तबू स्टारर फिल्म पर लोगों ने ये आरोप लगाते हुए इसे बैन करने की मांग रखी कि इसमें इंडियन आर्मी का नेगेटिव रोल दिखाया गया है। फिल्म में वायलेंस दिखाने वाले कुछ दृश्यों पर भी जनता ने आपत्ति जताई थी हालांकि रिलीज के बाद ये फिल्म एक बड़ी हिट साबित हुई।

डेली बेली

इमरान खान स्टारर फिल्म डेली बेली साल 2011 में युवाओं द्वारा काफी पसंद की गई थी, हालांकि फिल्म में गाली-गलौज होने के कारण लोगों ने फिल्म रिलीज से पहले काफी आपत्ति जताई थी। इस फिल्म का एक गाना ‘भाग डीके बोस’ भी डबल मीनिंग होने के चलते विवादों में था। गालियों को चलते फिल्म को एडल्ट सर्टिफिकेट मिला था, जिसके बाद नेपाल में इस फिल्म को पूरी तरह बैन कर दिया था।

माय नेम इज खान

साल 2010 में रिलीज हुई फिल्म माय नेम इज खान रिलीज से पहले काफी विवादों में थी। फिल्म रिलीज से पहले किंग नाइट राइडर के मालिक शाहरुख खान ने एक इंटरव्यू में कहा था कि आईपीएल में पाकिस्तानी प्लेयर्स को भी शामिल किया जाना चाहिए। शाहरुख के बयान के बाद लोगों ने उन्हें पाकिस्तानियों का सपोर्टर बताते हुए उनकी फिल्म बैन करने की मांग की।

वॉटर

दीपा मेहता द्वारा निर्देशित फिल्म वॉटर साल 2005 में रिलीज हुई थी। फिल्म में दिखाया गया था कि देश में विधवाओं की हालत कैसी है। देश के कुछ हिस्सों में आज भी विधवा महिलाओं को दोबारा शादी करने की इजाजत नहीं है साथ ही उन्हें विधवा जीवन बिताते हुए पूरी जिंदगी आश्रम में गुजारनी पड़ती है। फिल्म में विधवा प्रथा निभाने वाली औरतों की जिंदगी में रोशनी डाली गई है। फिल्म रिलीज होने के पहले ही मेकर्स को कापी विवादों का सामना करना पड़ा था। कई बार तो शूटिंग सेट पर हमला भी किया गया। कुछ संस्थाओं ने शूटिंग रोकने के लिए सुसाइड प्रोटेस्ट का भी सहारा लिया था।

मद्रास कैफे​​​​​​​​​​​​​​

​​​​​​​साल 2013 में रिलीज हुई फिल्म मद्रास कैफे में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्याकांड को दिखाया गया था। इस फिल्म का ट्रेलर रिलीज होते ही तमिल पॉलिटिकल पार्टीज ने अपनी छवि को नेगेटिव दिखाए जाने पर काफी विरोध किया था। कई तमिल पार्टियों ने फिल्म को बैन करने की मांग की थी जिसके बाद तमिलनाडु में फिल्म रिलीज पर रोक लग गई थी।

फायर

शबाना आजमी स्टारर ये उन गिनी चुनी फिल्मों में से एक है जिसमें समलैंगिक रिश्तों को खुलकर दिखाया गया था। इस फिल्म के टॉपिक के चलते शिव सेना ने फिल्म का जमकर विरोध किया था।

बेंडिट क्वीन​​​​​​​​​​​​​​

शेखर कपूर द्वारा निर्मित फूलन देवी पर बनी फिल्म बेंडिट क्वीन काफी विवादों में रही थी। फिल्म में अभद्र भाषा, न्यूडिटी और सेक्सुअल कंटेंट होने के कारण इसे बैन करने की मांग की गई थी। सेंसर बोर्ड ने इस पर फैसला लेते हुए फिल्म रिलीज रोक दी। 1994 में बनी इस फिल्म को दो साल के विवाद के बाद 1996 में रिलीज किया गया था। इस साल फिल्म को बेस्ट एक्ट्रेस, बेस्ट कॉस्ट्यूम डिजाइन और बेस्ट फीचर फिल्म के लिए नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

Source link

Leave a Reply