देश में पहली बार होगी महिला को फांसी: दोषी शबनम के लिए बक्सर जेल में मनीला रस्सी का फंदा तैयार हो रहा; राज्यपाल के पास फिर दया याचिका लगाई

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बक्सर12 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
सेंट्रल जेल बक्सर । - Dainik Bhaskar

सेंट्रल जेल बक्सर ।

मथुरा जेल में बंद परिजन की हत्या की दोषी शबनम और आगरा जेल में बंद उसके प्रेमी को फांसी दिए जाने की तैयारी चल रही है। बक्सर सेंट्रल जेल में मनीला रस्सी का फांसी का फंदा तैयार होना शुरू हो गया है। फंदा बनाने का आदेश मिलते ही जेल सुपरिटेंडेंट ने जेल की सुरक्षा बढ़ा दी है।

राष्ट्रपति के यहां से दया याचिका पहले ही खारिज हो चुकी है। इस बीच, शबनम ने UP के राज्यपाल के पास एक बार फिर दया याचिका लगाई है।

निर्भया के गुनहगारों की फांसी के लिए भी यहीं से गई थी रस्सी
बक्सर से भी किसी महिला को फांसी दिए जाने के लिए रस्सी भेजने का यह पहला मामला होगा। इसके पूर्व बक्सर जेल से निर्भया के गुनहगारों समेत कई लोगों को फांसी दी गई थी। ऐसा पहली बार हो रहा है जब किसी महिला को फांसी दिए जाने के लिए यहां से मनीला रस्सी जा रही है।

2008 में हुई थी वारदात, 2010 में आया था फैसला
जानकारी के मुताबिक, अमरोहा के हसनपुर कस्बे से सटे बावनखेड़ी गांव में 2008 की 14-15 अप्रैल की रात शिक्षामित्र शबनम ने अपने 8वीं पास प्रेमी सलीम के साथ मिलकर अपने पिता शौकत, मां हाशमी, भाई अनीश, रसीद, भाभी अंजुम, फुफेरी बहन राबिया तथा 10 महीने के मासूम भतीजे का गला काटकर हत्या कर दी थी। असल में शबनम और सलीम एक दूसरे से प्रेम करते थे, लेकिन शबनम के घरवाले उनके प्रेम में बाधक बन रहे थे। ऐसे में दोनों ने इस घटना को अंजाम दिया था।

आजादी के बाद से यहीं के कच्चे सूत और मोम से तैयार होती है मनीला रस्सी
आजादी के पहले से अब तक जितनी फांसी दी गई, उनमें बक्सर जेल में बनी मनीला रस्सी से बने फंदे का ही इस्तेमाल हुआ। अजमल कसाब, अफजल गुरु समेत निर्भया के चार गुनहगारों को इसी रस्सी से लटकाया गया था। दोषियों को आराम से मौत देने वाली इस रस्सी को विशेष रूप से यहां तैयार किया जाता है। इस रस्सी को बनाने की खास विधि होती है। पहले कच्चे सूत से एक-एक कर अठारह धागे तैयार किए जाते हैं। इन्हें मोम में डुबाया जाता है। इसके बाद सभी धागों को मिलाकर एक मोटी अठारह फीट की रस्सी तैयार की जाती है।

उधर, बक्सर के प्रभारी जेल अधीक्षक त्रिभुवन सिंह ने कहा कि रस्सी बनाने का ऑडर मिलने के बाद उसे बनाने का काम शुरू किया जाएगा। अभी तक लिखित सूचना नहीं मिली है। हालांकि, रस्सी बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

Source link

Leave a Reply