क्या है टूलकिट! कौन है दिशा और 21 साल की लड़की ने की निजी जानकारी लीक न किए जाने की मांग 

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)।  टूलकिट (toolkit case) मामले में गिरफ्तार पर्यावरणविद दिशा रवि (Disha ravi) ने हाईकोर्ट का रूख किया है। उन्होंने एक याचिका दायर कर निजी चैट को सार्वजनिक न किए जाने या मीडिया को उपलब्ध न कराए जाने को लेकर कोर्ट से दिल्ली पुलिस को निर्देश देने की मांग की है। दिशा चाहती है कि टूलकिट मामले की जांच के संबंध में पुलिस मीडिया से कोई भी जानकारी साझा न करें। सोशल मीडिया पर किसानों के विरोध प्रदर्शन से संबंधित एक टूलकिट को कथित तौर पर एडिट करने और शेयर करने के आरोप में पिछले हफ्ते बेंगलुरू से 21 वर्षीय दिशा की गिरफ्तारी की गई थी, जिसके बाद उन्हें पांच दिन के लिए पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया था।

हाईकोर्ट में किए अपने आवेदन में उन्होंने मांग की है, दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया जाए कि जांच से संबंधित किसी भी विषय सामग्री को लीक न किया जाए, इनमें उनके और किसी थर्ड पार्टी के बीच हुए संवाद और निजी व्हाट्सअप चैट शामिल हैं। इसके अलावा दिशा ने न्यूज18, इंडिया टुडे, टाइम्स नाऊ और अन्य सैटेलाइट चैनलों के खिलाफ उचित कार्रवाई किए जाने की भी मांग की है और कहा है कि उनके व किसी थर्ड पार्टी के बीच हुई बातचीत के प्रसारण पर इन्हें रोक लगाने का निर्देश दें। आइए, जानते हैं क्या है टूलकिट! और कौन है दिशा …. 

किसान आंदोलन से जुड़ा टूलकिट मामला अब बड़ा राजनीतिक मसला बन चुका है। टूलकिट दिशा -निर्देश की एक सीरीज है। टूलकिट बताता है कि किसी विशेष उद्देश्य को कैसे प्राप्त किया जा सकता है। Toolkit के जरिए किसी भी कार्यक्रम को शुरू करने एक्‍शन पॉइंट्स तैयार किए जाते हैं। इन एक्‍शन पॉइंट्स को जिस दस्तावेज में दर्ज किया जाता है, उसे ही टूलकिट कहते हैं। 

दिशा रवि ने किसान आंदोलन से संबंधित टूलकिट बनाया था, जिसे थनबर्ग के साथ शेयर किया था। 21 साल की दिशा रवि पर्यावरण संरक्षण के लिए फ्राइडेस फॉर फ्यूचर कैंपेन चलाती हैं। दिशा ने बैंगलुरू के माउंट कार्मन कालेज से पढ़ाई की है। पुलिस के आरोप है कि यह टूलकिट खालिस्तानियों ने देश में हिंसा फैलाने के लिए बनाई है। दिशा रवि का कहना है कि किसानों के समर्थन में अपनी बात लोगों तक पहुंचाने टूलकिट का इस्तेमाल किया।  

Source link

Leave a Reply