जातिवाद का मुद्दा: पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह के खिलाफ 8 महीने पुराने मामले में कार्रवाई, ऑनलाइन की थी युजवेंद्र चहल पर आपत्तिजनक टिप्पणी

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Offense Comment Online, Against Hansi (Haryana) Former Cricketers Yuvraj Singh And Yuzvendra Chahal In 8 Months Old Case

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हांसी (हरियााणा)29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह और (दाएं) उनकी टिप्पणी के पीड़ित हरियाणा के युवा क्रिकेटर युजवेंद्र चहल। - Dainik Bhaskar

पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह और (दाएं) उनकी टिप्पणी के पीड़ित हरियाणा के युवा क्रिकेटर युजवेंद्र चहल।

हरियाणा के हांसी में पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है। उनके खिलाफ यह केस अनुसूचित जाति के लोगों के खिलाफ इंटरनेट मीडिया पर टिप्‍पणी के आरोप में दर्ज किया गया है। मामला 8 महीने पुराना है, जब युवराज सिंह ने युजवेंद्र चहल के खिलाफ जातिसूचक शब्द इस्तेमाल किए थे। पुलिस मामले की जांच कर रही है। हालांकि पहले पुलिस द्वारा मामले में कार्रवाई नहीं करने के खिलाफ शिकायतकर्ता कोर्ट में भी याचिका दायर कर चुके हैं।

युवराज सिंह पर आरोप है कि उन्‍होंने पिछले वर्ष रोहित शर्मा से लाइव चैट में युजवेंद्र चहल पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। इस मामले में नेशनल अलायंस और दलित ह्यूमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन ने हांसी पुलिस अधीक्षक को शिकायत दी थी।

नेशनल अलायंस और दलित ह्यूमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन ने कहा कि क्रिकेटर युवराज सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने में पुलिस ने आठ महीने से अधिक का समय लगा दिया। शिकायतकर्ता रजत कलसन ने बताया कि उन्होंने युवराज सिंह के खिलाफ पिछले साल दो जून को पुलिस को शिकायत दी थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज नहीं किया।

कलसन ने गृहमंत्री को पुलिस के खिलाफ शिकायत दी और मामले को न्यायालय में ले गए। हिसार स्थित अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत स्थापित विशेष न्यायालय के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वेदपाल सिरोही ने शिकायतकर्ता कलसन की याचिका पर जांच अधिकारी दो डीएसपी व हांसी शहर थाना के तत्कालीन प्रभारी के खिलाफ अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार अधिनियम की धारा चार के तहत जांच के आदेश दिए।

बाद में नेशनल अलायंस और दलित ह्यूमन राइट्स के संयोजक और शिकायतकर्ता रजत कलसन ने 11 जनवरी को न्यायालय में याचिका दायर कर आरोप लगाया कि 2 जून 2020 को उन्होंने युवराज सिंह के खिलाफ हांसी पुलिस को एक शिकायत दर्ज कराई थी।

मुकदमा दर्ज कर युवराज सिंह को गिरफ्तार करने की मांग की थी, पर हांसी पुलिस ने कोई मुकदमा दर्ज नही किया तथा बिना मुकदमा दर्ज किए ही प्रारंभिक जांच शुरू कर दी। कलसन के अनुसार मामले में राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने भी हांसी पुलिस अधीक्षक को मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए थे। इसके बाद भी जब मुकदमा दर्ज नहीं हुआ तो उन्होंने गृहमंत्री के सामने शिकायत लगाई थी। उन्होंने कहा कि वहां से भी उचित कार्रवाई नहीं होने पर कोर्ट में याचिका दायर करना पड़ा।

युवराज सिंह ने सोशल मीडिया मांग ली थी माफी

युवराज सिंह ने युजवेंद्र चहल के खिलाफ जातिसूचक शब्द इस्तेमाल किए थे। मामला बढ़ा तो उन्होंने सोशल मीडिया पर माफी भी मांगी थी। जिसमें युवराज सिंह ने कहा था कि-‘मैं साफ करना चाहता हूं कि मैं रंग, जाति, पंथ के आधार पर किसी तरह के भेदभाव में यकीन नहीं करता। मैंने लोगों की भलाई के लिए जिंदगी जी है और आगे भी ऐसे ही जीना चाहता हूं। मैं हर व्यक्ति का सम्मान करता हूं। मैं अपने दोस्तों से बात कर रहा था और उस समय मेरी बात को गलत तरीके से लिया गया, जो अनुचित था।’

युवराज ने आगे कहा, ‘एक जिम्मेदार भारतीय होने के नाते मैं कहना चाहता हूं कि अनजाने में अगर मेरी बातों से किसी को दुख पहुंचा है तो मुझे इसका खेद है।’

Source link

Leave a Reply