इमरान की फजीहत: पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल शोएब बोले- हमारा PM नकारा और नालायक, मोदी से उनकी तुलना नहीं हो सकती

  • Hindi News
  • International
  • Imran Khan Narendra Modi| Pakistan Prime Minister Slammed By Pakistan Army Lt Gen Amjad Shoaib He Praised Narendra Modi.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इस्लामाबाद38 मिनट पहले

किसी वक्त प्रधानमंत्री इमरान खान के पक्ष में नजर आने वाले पूर्व फौजी अफसर भी अब उनका सख्त विरोध करने लगे हैं। इमरान की विदेश नीति पर सवाल उठ रहे हैं। हाल ही में एक टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) अमजद शोएब ने इमरान का नकारा और नालायक तक कह दिया। हालांकि, इस पूर्व फौजी अफसर ने जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद का बचाव किया।

अमजद शोएब पाकिस्तान के लिए जाना-पहचाना नाम है। वे मुल्क के लगभग हर न्यूज चैनल पर आर्मी और फॉरेन पॉलिसी के एक्सपर्ट के तौर पर नजर आते हैं। शोएब अपना एक यूट्यूब चैनल भी चलाते हैं। इसके पहले तक वे खुले तौर पर इमरान और फौज का बचाव करते आए हैं।

हाफिज सईद का मामला भारत की देन
एक सवाल के जवाब में शोएब ने कहा- अमेरिका ने हाफिज सईद के सिर पर ईनाम घोषित किया। यहां अपना एजेंट रेमंड डेविस भेजा। उसके जरिए वो मुंबई हमले में हाफिज सईद की भूमिका के सबूत हासिल करना चाहते थे, लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिला। दरअसल, हाफिज सईद का मामला भारत के दबाव में जिंदा रखा जाता है।

हम खुद दूसरों को मौका देते हैं
सरकार के कामकाज पर सवाल उठाते हुए इस पूर्व फौजी अफसर ने कहा- पिछले साल अमेरिका ने शक के आधार पर हमारी हबीब बैंक के तमाम ट्रांजेक्शन पर रोक लगा दी। दिक्कत देश के अंदर है। हबीब बैंक और दूसरे संगठनों पर अमेरिका में कार्रवाई होती है, हमारे देश में क्यों नहीं। हमने किसी को सजा क्यों नहीं दी। हमने इतनी कोताहियां कीं, इसका कोई हिसाब भी नहीं दे सकता।

हुकुमत एक व्यक्ति की गुलाम
शोएब ने इमरान का नाम लिए बिना खूब खरी-खोटी सुनाईं। एक सवाल के जवाब में कहा- सच्चाई ये है कि हुकूमत एक नकारा और नालायक आदमी के हाथ में दे दी गई है। या ये कहें कि हुकूमत उसकी गुलाम बना दी गई है। पूरी दुनिया अपने मुल्क के लिए काम कर रही है, और ये हुकूमत इस नालायक आदमी के लिए काम कर रही है। लोगों को यह यकीन दिलाने में लगा दिया गया है कि हमारा तो यही प्रधानमंत्री है। जो लीडर्स अपने मुल्क के लिए काम करते हैं उनका पर्सनल एजेंडा या जाति नहीं होती। वो आने वाली पीढ़ियों के लिए कुछ करना चाहते हैं। हमारी डिप्लोमैसी फ्लॉप है, क्योंकि हमारे वजीर-ए-आजम को कुछ पता ही नहीं रहता। ऐसे आदमी की तुलना आप नरेंद्र मोदी से कैसे कर सकते हैं?

Source link

Leave a Reply