143 विधानसभा सीटों पर भाजपा है तैयार उम्मीदवारों के नाम पर फाइनल मुहर लगना बाकी

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar BJP Candidate Checklist Newest Information Replace; Bharatiya Janata Occasion Is Prepared To Finalize 143 Candidates For 143 Vidhan Sabha Seats
पटना5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

भाजपा जल्द से जल्द सीटों पर स्थिति स्पष्ट करना चाहती है, जिससे कि उसके कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ चुनाव प्रचार और चुनावी तैयारियों में लग सके।

  • 143 सीटों पर भाजपा ने अपनी तैयारी पूरे जोर-शोर से शुरू कर दी है
  • एनडीए में सीट बंटवारे का एलान four से 5 दिन में हो सकता है

एनडीए में लोजपा को लेकर चल रही खींचतान के बीच बीजेपी ने 143 विधानसभा सीटों पर अपनी तैयारी पूरी कर ली है। बिहार भाजपा ने इन सभी विधानसभा क्षेत्रों के प्रमुख पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ एक बैठक कर इन सीटों पर भाजपा की स्थितियों की समीक्षा की और इन नेताओं को पार्टी की आगामी रणनीति की जानकारी दी।

पार्टी ने इन नेताओं के जरिए सभी विधानसभाओं के संभावित उम्मीदवारों की दावेदारी का भी आकलन किया। यही नहीं, इन कार्यकर्ताओं से पार्टी के विधायकों के कामकाज और परफॉरमेंस से जुड़ी रिपोर्ट भी ली। माना जा रहा है कि भाजपा ने इन सभी 143 सीटों पर जदयू के सामने अपनी दावेदारी पेश की है। बीजेपी के सूत्र बताते हैं कि पार्टी ने जदयू से कई सिटिंग सीटें भी मांगी है।

नालंदा की 2 सीटों पर भी अपनी दावेदारी पेश की है इन 143 सीटों पर भाजपा ने अपनी तैयारी पूरे जोर-शोर से शुरू कर दी है। इन तैयारियों की मॉनिटरिंग बीते 2 दिनों से खुद भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष कर रहे हैं। इसी को लेकर बीएल संतोष ने गुरुवार को छपरा का दौरा किया जहां उन्होंने छपरा के आसपास के विधानसभाओं के प्रमुख कार्यकर्ताओं से तैयारियों की जानकारी ली। गुरुवार शाम को वापस दिल्ली जा रहे वी एल संतोष भाजपा आलाकमान को इन सभी 143 सीटों से जुड़ी विस्तृत रिपोर्ट देंगे।

four से 5 दिनों में हो सकता है एनडीए में सीट बंटवारे का एलान
सीट बंटवारे को लेकर भाजपा और ज्यादा देर करने के मूड में नहीं है। लोजपा से बातचीत के मामले को जल्द सुलझा बीजेपी अब four से 5 दिनों में सीट बंटवारे पर औपचारिक ऐलान कर सकती है और इसके बाद जदयू भाजपा के बीच कौन सी सीट किस पार्टी के खाते में जाएगी यह भी तय हो जाएगा। सूत्रों की माने तो दोनों ही दलों के बीच ज्यादातर विधानसभाओं को लेकर आपसी सहमति लगभग बन चुकी है कहा यह जा रहा है कि लगभग 15 से 20 विधानसभाओं पर खींचतान है, जिसे दोनों पार्टियों के नेता आपस में बैठकर आसानी से सुलझा लेंगे।

भाजपा नहीं रखना चाहती अपने कार्यकर्ताओं को कन्फ्यूजन में
असल में बीजेपी को इस बात का डर है कि ज्यादा लंबे इंतजार से बीजेपी कार्यकर्ताओं के मनोबल पर बुरा असर पड़ेगा और इससे उनका चुनावी तैयारियों को लेकर उत्साह भी कम होगा। लिहाजा भाजपा जल्द से जल्द सीटों पर स्थिति स्पष्ट करना चाहती है, जिससे कि उसके कार्यकर्ता पूरे जोश के साथ चुनाव प्रचार और चुनावी तैयारियों में लग सके। यूं तो बीजेपी ने पहले ही चुनाव प्रबंधन से लेकर चुनाव प्रचार का काम शुरू कर दिया है, लेकिन इन सबके बावजूद बीजेपी को यह अच्छी तरह से पता है कि सीटों के बंटवारे के बाद बीजेपी के कार्यकर्ता ज्यादा उत्साह के साथ अपने-अपने क्षेत्रों में चुनावी कार्य में लग सकेंगे। ऐसे हालात में जब बीजेपी के शहरी वोटरों को कोरोना वायरस का डर डरा रहा है। ऐसे में कार्यकर्ताओं के जरिए ही भाजपा अपने वोटरों को घर से बाहर ला सकती है। इसलिए कार्यकर्ताओं का जल्द से जल्द सक्रियता से चुनाव प्रचार में लगना बेहद जरूरी है।

सीट बंटवारे में देर गठबंधन में पैदा करेगा भ्रम की स्थिति
भाजपा को इस बात की भी आशंका है की सीट बंटवारे में ज्यादा देर दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं में भ्रम और संदेह की स्थिति पैदा करेगी जो विधानसभा चुनाव की तैयारियों में परेशानी खड़ी कर सकती है। लिहाजा जल्द से जल्द दोनों पार्टियों के बीच स्थिति स्पष्ट करनी बेहद जरूरी है।

0

Source link

Leave a Reply