वाराणसी में सड़क पर उतरे रेलवे कर्मचारी, बोले- आरक्षण व्यवस्था को खत्म किया जा रहा, 6 हजार से ज्यादा लोग होंगे प्रभावित

वाराणसीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

वाराणसी में डीएलडब्लू के पूर्वी गेट पर प्रदर्शन करते कर्मचारी।

  • डीएलडब्लू के कर्मियों ने प्रदर्शन कर पीएम और रेल मंत्री को लिखा पत्र

भारतीय रेलवे के निजीकरण व निगमीकरण के खिलाफ डीएलडब्लू (डीजल लोकोमेटिव वर्क्स) के सैकड़ों कर्मचारी गुरुवार को सड़कों पर उतर आए। ऑल इंडिया एससी/एसटी रेलवे इम्पलॉइज एसोसिएशन के बैनर तले कर्मचारियों ने केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। इसके साथ ही डीएलडब्लू के महाप्रबंधक एस पाल सिंह के माध्यम से रेलमंत्री को ज्ञापन भेजा जाएगा।

6000 के करीब कर्मी होंगे प्रभावित

एसोसिएशन के जोनल प्रेसीडेंट रूप सिंह मीणा ने बताया सरकार के इस फैसले से डीएलडब्लू के छोटे-बड़े कर्मचारियों को मिलाकर 6000 के करीब लोग प्रभावित होंगे। उन्होंने कहा कि, पहले स्टेशनों का निजीकरण शुरू किया गया। उसके बाद अब भारतीय रेल से धीरे धीरे आउट सोर्स कर सफाई कर्मचारियों को पद समाप्त कर उन्हें प्राइवेट हाथों में देकर संविदा पर रखा जा रहा है।

निजीकरण से आरक्षण खत्म हो रहा

सरकार की नीतियों का प्रभाव सीधे एससी/एसटी पर पड़ रहा है। प्राइवेट हाथों में जाने से आरक्षण समाप्त हो जाएगा। बीएसएनएल और एयरपोर्ट भी सरकार के निशाने पर पहले ही रही है।

प्रदर्शन का एजेंडा

  • रेलवे का निजीकरण तत्काल बंद किया जाए।
  • रेलवे में 40 से 50 प्रतिशत पद समाप्त करने का निर्णय तत्काल वापस लिया जाए।
  • भारत में समान शिक्षा नीति लागू हो, ताकि गरीब और अमीर के बच्चे एक साथ पढ़ें।
  • पदोन्नति में आरक्षण को सुरक्षित करने का बिल 117 वां संविधान संशोधन विधेयक पास किया जाए, जो 2012 में राज्य सभा में पास है।

0

Source link

Leave a Reply