मॉब लिचिंग के शिकार तबरेज अंसारी की मौत के मामले में दो डॉक्टरों पर विभागीय कार्रवाई चलाने के आदेश

  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jharkhand Tabrez Ansari Mob Lynching Case: Orders To Conduct Departmental Motion In opposition to Two Docs
रांची27 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सरायकेला-खरसावां में पिछले साल 17 जून को भीड़ ने बाइक चोरी के शक में 22 वर्षीय तबरेज अंसारी को बुरी तरह पीटा, जिससे उसकी मौत हो गई थी। (फाइल)

  • 17 जून 2019 को भीड़ ने बाइक चोरी के आरोप में तबरेज को पीटा था, बाद में इलाज के दौरान हुई थी मौत
  • दो डॉक्टरों पर पीड़ित के इलाज में लापरवाही बरतने का अारोप, विभागीय कार्रवाई को दी स्वास्थ्य मंत्री ने अनुमति

राज्य की चर्चित मॉब लिचींग घटना में 22 वर्षीय तबरेज अंसारी की मौत के मामले में स्वास्थ्य विभाग के दो डॉक्टरों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने दोनों चितित्सकों डॉ. शाहीद अनवर और डॉ. ओम प्रकाश केशरी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई चलाने की सहमति दे दी है।

सरायकेला-खरसावां में पिछले साल 17 जून को भीड़ ने बाइक चोरी के शक में 22 वर्षीय तबरेज अंसारी को बुरी तरह पीटा, जिससे उसकी मौत हो गई। आरोप है कि सदर अस्पताल में भर्ती किए जाने के बाद भी ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों ने तबरेज का ठीक ढंग से मेडिकल इन्वेस्टिगेशन नहीं कराया और जेल जाने के लिए उन्हें फिट होने का रिपोर्ट दिया। इसके कारण उनकी स्थिति बिगड़ती चली गई और उसकी मौत हो गई। जिला प्रशासन की जांच रिपोर्ट के आधार पर ड्यूटी पर तैनात दोनों डॉक्टरों के ख़िलाफ लापरवाही के आधार पर कार्रवाई की जा रही है।

डॉक्टर ने नहीं दिखाई गंभीरता, की खानापूर्ति
आरोप है कि 18 जून की सुबह व शाम को दो बार डॉक्टर ने तबरेज के शरीर की जांच की, लेकिन उन्होंने उसे गंभीरता से नहीं लिया। सुबह में दूसरे डॉक्टर के द्वारा जांच की गई, जिसमें केवल एक एक्स रे कराया गया। जबकि उसके शरीर की पूरी जांच होनी चाहिए थी। डॉक्टर ने जांच रिपोर्ट में इंज्यूरी या अन्य स्वास्थ्य संबधी सूचना तक नहीं लिखी। वहीं, शाम को जब दूसरे डॉक्टर ने जांच की तो सुबह वाले डॉक्टर के एक्सरे रिपोर्ट को ही आधार मान लिया। जबकि उन्हें शरीर की पूरी जांच करके पीड़ित को अस्पताल में भर्ती कराना चाहिए था, जो नहीं किया गया।

0

Source link

Leave a Reply