कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कहा था करेंगे कृषि सुधार, अब कर रही विरोध: सीपी सिंह

  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Ranchi: Congress Had Stated In Its Manifesto That It Will Do Agricultural Reform, Now Protesting: CP Singh
रांचीfour घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

भाजपा विधायक सीपी सिंह ने कहा- कृषि सुधार विधेयक मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम है। (फाइल)

  • विधायक ने कहा, कांग्रेस का दोहरा चरित्र उजागर, कृषि सुधार विधेयक मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम

भाजपा विधायक सीपी सिंह ने गुरुवार को कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कृषि सुधार की बात कही थी। पर अब वह भाजपा के इसी कदम का विरोध कर रही है। 2013 में राहुल गांधी ने कहा था कि कांग्रेस शासित राज्यों में फल एवं सब्जियों को एपीएमसी एक्ट से बाहर रखेंगे, परंतु वे आज इसी के खिलाफ में हैं। प्रदेश भाजपा कार्यालय में हुई प्रेस वार्ता में विधायक ने कहा कि ऐसा कर एक बार फिर कांग्रेस ने अपना दोहरा चरित्र उजागर किया है। कृषि सुधार विधेयक मोदी सरकार का ऐतिहासिक कदम है।

सीपी सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने अपने 55 वर्षों के शासन में किसानों को मजबूत बनाने के लिए कुछ भी नहीं किया। कर्ज माफी में भी घोटाला किया। दरअसल, कांग्रेस के पास न तो सोच है और न ही इच्छाशक्ति ही है। विधायक ने कहा कि किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलता रहेगा। वन नेशन, वन मार्केट से किसान अब अपनी फसल कहीं भी, किसी से बेच सकेंगे। करार से किसानों को निर्धारित दाम पाने की गारंटी होगी। किसानों को किसी करार से बांधा नहीं जा सकेगा। किसान बिना कोई पेनाल्टी के किसी मोड़ पर करार से बाहर जा सकेगा। करार फसलों का होगा, जमीन का नहीं। इसमें जमीन की गिरवी, बिक्री और लीज पर पूरी तरह निषिद्ध है। प्रेसवार्ता में प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक उपस्थित थे।

यूपीए शासन में कृषि बजट 12 हजार करोड़ था, अब 1 लाख 34 हजार करोड़
सीपी सिंह ने कहा कि यूपीए शासन में कृषि बजट 12 हजार करोड़ था, जिसे बढ़ाकर प्रधानमंत्री ने 1 लाख 34 हजार करोड़ किया। किसान सम्मान निधि में अब तक 92 हजार करोड़ किसानों के खाते में सीधे ट्रांसफर किया गया है। किसानों के लोन के लिए eight लाख करोड़ के स्थान पर 15 लाख करोड़ की व्यवस्था की गई। प्रधानमंत्री किसान मानधन के तहत 60 वर्ष के किसानों के लिए 3000 रुपए प्रति माह पेंशन का प्रावधान किया गया। एमएसपी की बात करें तो 6 वर्षों में यूपीए सरकार से दोगुना 7 लाख करोड़ किसानों को भुगतान किया गया। सीपी सिंह ने कहा कि एनडीए शासन में विभिन्न फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्यों में भारी भारी वृद्धि की गई।

0

Source link

Leave a Reply