आईजी ऑफिस में तैनात अधिकारी ने महिला पुलिसकर्मी से की अश्लील हरकत, गंदे मैसेज भेजने लगा तो फूटा गुस्सा

दरभंगा25 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

महिला पुलिस कर्मी ने आइजी के पास लिखित शिकायत दर्ज की है। एसएसपी ने जांच शुरू कर दी है।

  • दरभंगा में कास्टिंग काउच का मामला, महिला पुलिस कर्मी ने पुलिस अधिकारी पर लगाया गंभीर आरोप
  • आइजी ने एसएसपी को दिया जांच का आदेश

दरभंगा में एक महिला पुलिसकर्मी ने आईजी दफ्तर में तैनात पुलिस अधिकारी पर अश्लील हरकत करने का आरोप लगाया है। महिला ने आईजी को भेजे लिखित शिकायत में पुलिस अधिकारी शुभम ओझा पर जबरन शारीरिक संबंध बनाने का दवाब डालने का आरोप लगाया है। उसने अपने आवेदन में लिखा कि मैं सरकारी कामकाज से आईजी ऑफिस जाती थी, जहां शुभम करण ओझा मेरी सम्पर्क में आए। इसी बहाने वह धीरे धीरे अश्लील मैसेज छोड़ने लगे। अधिकारी होने के कारण उसने पहले कुछ नहीं कहा लेकिन जबरन शारीरिक संबंध बनाने की बात से महिला पुलिसकर्मी का गुस्सा फूटा। मामला सामने आते ही पुलिस विभाग में खलबली मच गई । पूरे मामले की जांच आइजी ने एसएसपी को करने का आदेश दिया है।

महिला पुलिसकर्मी ने पुलिस विभाग की खोली पोल
जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो क्या हो, कुछ ऐसा ही हाल है पुलिस विभाग का। यहां पर महिला पुलिसकर्मी अगर अधिकारियों की डिमांड पूरी कर दे तो उन्हें ड्यूटी करने दिया जाता है। ऐसा नही करने पर उसे तंग करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाती। पीड़ित महिला पुलिसकर्मी ने पुलिस विभाग का पर्दाफाश किया। उन्होंने कहा कि विभाग में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। यहां जमकर कास्टिंग काउच चलता है। इज्जत बचाकर नौकरी करना यहां संभव नहीं है।

ये है मामला
महिला पुलिसकर्मी ने एक पुलिसकर्मी रागीव आलम खां को 60 हजार रूपये कर्ज दिया था। पैसा वापस करने में आनाकानी करने पर उसने आइजी के रीडर शुभ करण ओझा से मदद मांगी। इस आड़ में ओझा महिला कर्मी से अश्लील हरकत पर उतर आए। जब कर्मी इसका विरोध करने लगी तो रागीव के साथ मिलकर इसे ब्लैकमेल करने लगे। महिला कर्मी ने दो लिखित शिकायत आइजी को सौंपी है, जिसमें रागीव आलम खां के खिलाफ फोन पर धमकाने और अभद्र भाषा के प्रयोग का आरोप लगाया है। वहीं आइजी रीडर के खिलाफ उन्होंने अश्लील बातें करने गलत नीयत से प्राइवेट पार्ट छूने का गंभीर आरोप लगाया है।

0

Source link

Leave a Reply