अबोहर में कांग्रेसियों ने निकाली ट्रैक्टर रैली, हरसिमरत के इस्तीफे पर कहा- अंगुली कटवाकर शहीदी पानी चाहता है शिअद

  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Agricultural Invoice Protest Replace: Fazilka District Congress Committee Staff Tractor Rally In Punjab Abohar
अबोहर31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अबोहर में जिला कांग्रेस कमेटी के प्रभारी संदीप जाखड़ किसानों और पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए। इससे पहले उन्होंने खुईयां सरवर से अबोहर तक ट्रैक्टर रोष रैली का नेतृत्व किया।

  • जिला कांग्रेस कमेटी के प्रभारी संदीप जाखड़ ने किया रोष रैली का नेतृत्व, ग्रामीण इलाके में खुईयां सरवर से शुरू हुई रैली अबोहर में खत्म हुई
  • संदीप ने कहा- अबोहर की अनाज मंडी में eight सप्ताह के गेहूं के हर सीजन में 10 हजार मजदूर काम करके अपना परिवार पालते हैं

केंद्र सरकार के कृषि विधेयकों के विरोध की कड़ी में गुरुवार को फाजिल्का जिला कांग्रेस कमेटी ने अबोहर में ट्रैक्टर रैली निकाली। रैली का नेतृत्व पार्टी के जिला प्रभारी संदीप जाखड़ ने किया। रैली का किसानों के साथ सीधा संबंध होने के चलते जाखड़ ने इसे ग्रामीण इलाके खुईयां सरवर से शुरू किया। इस दौरान जाखड़ ने अकाली दल पर तंज कसते हुए कहा कि किसानों के विरोध के बाद हरसिमरत कौर को इस्तीफा देना पड़ा। इससे साफ है कि यह पार्टी अंगुली काटकर शहीदी पाना चाहती है। उधर, आम आदमी पार्टी की तरफ से भी ट्रैक्टरों और मोटरसाइकलाें पर रोष रैली निकालकर प्रदर्शन किया गया।

रैली में शामिल किसान सुबह 9 बजे ही खुईयां सरवर में पहुंचने शुरू हो गए थे। सैकड़ों की संख्या वाले ट्रैक्टरों के काफिले की अगुवाई जिला कांग्रेस प्रभारी संदीप जाखड़ ने खुद ट्रैक्टर चलाकर की। ट्रैक्टर रोष रैली के बाद अबोहर में मार्केट कमेटी के कॉन्फ्रेंस हॉल में मीडिया से मुखातिब संदीप जाखड़ ने अकाली-भाजपा को आड़े हाथों लिया।

उन्होंने कहा कि अकाली-भाजपा नेता चीख-चीखकर कह रहे हैं कि इन कानूनों के अस्तित्व में आने के बाद किसान अपनी फसल कहीं भी बेच सकता है, जो पहले से ही लागू है। फिर किसानों को गुमराह क्यों किया जा रहा है। केंद्र सरकार किसानों को एमएसपी देने की बात कह रही है, जबकि विधेयक की प्रस्तावना में ऐसा कुछ नहीं लिखा गया है। इनके कारण मंडीकरण खत्म हो जाएगा और कॉर्पोरेट घराने किसानों का शोषण करेंगे।

बकौल संदीप जाखड़, छोटे लेवल पर भी बात की जाए तो अबोहर की अनाज मंडी में गेहूं के हर सीजन में करीब 10 हजार मजदूर काम करते हैं, जो eight सप्ताह के सीजन में काम कर अपने परिवार का गुजारा करते हैं। ऐसे में अगर ये बिल पास होगा तो किसानों के साथ-साथ उन मजदूरों का रोजगार भी खत्म हो जाएगा। वैसे भी एक मजदूर के पीछे उसके परिवार के four सदस्य हों तो अबोहर मंडी में गेंहू के सीजन में 40 हजार लोग प्रभावित होंगे।

अबोहर में ट्रैक्टरों और मोटरसाइकलों पर रोष रैली निकालते आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता।

अबोहर में ट्रैक्टरों और मोटरसाइकलों पर रोष रैली निकालते आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता।

0

Source link

Leave a Reply